Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » चौपाल » भड़ास (page 17)

भड़ास

आखिर राजनीती मे कायस्थ नेता क्यूँ नहीं पैदा होते ? – आशु भटनागर

आशु भटनागर I मुझे याद है कायस्थ खबर को शुरू करने के प्रारम्भिक दिनों जब मैं भोपाल मे कई वर्षो से कायस्थ समाज सेवा के कार्यो मे जुड़े वेद आशीष श्रीवास्तव से मिला तो उन्होंने कहा की कायस्थ समाज मे लोग ऐसी चीजे सिर्फ अपने खाली दिनों मे लाते है तुम्हे भी कल को कोई बड़ा मौका मिल जाएगा तो ...

Read More »

संविधान निर्माता डा०राजेन्द्र प्रसाद दिवस मनाने वाले सभी साथियो को साधुवाद – धीरेन्द्र श्रीवास्तव

देश के उन सभी साथियो को साधुवाद जिन्होने 3 दिसम्बर के पावन दिवस को जन्मे तीन कुलगौरव अमर महापुरुषो दानवीर मुंशी काली प्रसाद, शहीद खुदीराम बोस एवं भारतरत्न डा०राजेन्द्र प्रसाद की जयन्ती पर सभी को नमन करते हुये निर्मल एवम मुक्तहृदय से "संविधान निर्माता डा०राजेन्द्र प्रसाद दिवस" मनाया जो हमारे स्वाभिमान व सम्मान हेतु मील के पत्थर सादृश है। हालांकि ...

Read More »

संविधान निर्माता दिवस पर बिशेष – राजेन्द्र बाबू से क्यों बचते थे नेहरु : आर के सिन्हा

आर. के. सिन्हा, सांसद, राज्यसभा । डा. राजेन्द्र प्रसाद की शख्सियत से पंडित नेहरु हमेशा अपने को असुरक्षित महसूस करते रहे। उन्होंने राजेन्द्र बाबू को नीचा दिखाने का कोई अवसर भी हाथ से जाने नहीं दिया। हद तो तब हो गई जब 12 वर्षो तक राष्ट्रपति  रहने के बाद राजेन्द्र बाबू देश के राष्ट्रपति पद से मुक्त होने के बाद पटना ...

Read More »

संविधान निर्माता डा. राजेन्द्र प्रसाद क्यूँ नहीं – जय प्रकाश सिन्हा

डा. राजेन्द्र प्रसाद जी - - - संविधान निर्माता ? कैसे ? भारतीय संविधान सभा की पहली बैठक दिसम्बर, 1946 मे हुई जिसमें सर्वसम्मति से डा. राजेन्द्र प्रसाद जी को संविधान सभा का अध्यक्ष चुना गया. "A very high position in public life, long experience, exceptional qualities of head & heart" अध्यक्ष चुनने के कारण थे. अध्यक्ष चुने जाने के ...

Read More »

अगर हमें जिन्‍दगी में आगे निकलना है तो इन केकडे टाइप लोगों से बचना होगा – संजीव सिन्हा

आप चारपहिया गाडी से हाईवे पर जा रहे हों, आपके आगे एक पुराना खटारा ट्रक वाला पहली लेन में चल रहा हो और आपके बार-बार पास मांगने पर भी पास नहीं देता है तो आप क्‍या करते हैं। मजबूर होकर ट्रैफिक नियमों के विपरीत जाकर उसे बांये से ओवरटेक करके आगे निकल जाते है क्‍योंकि वो न तो आपसे तेज ...

Read More »

कायस्थ रत्न सच्चिदानंद सिन्हा के जन्म दिन 10 नवंबर पर खास -आर.के. सिन्हा

आर.के. सिन्हा । जिन महापुरुषों को ये देश भूलता जा रहा है और उनके देश-समाज के लिए किए उल्लेखनीय कार्यों को नजरअंदाज कर रहा है, उनमें डा0 सच्चिदानन्द सिन्हा भीशामिल हैं। उनकी अगुवाई में ही बंगाल से बिहार को अलग करने की मांग को लेकरचला था आंदोलन। सच्चिदानंद का व्यक्तित्व बहुआयामी था। वे विधिवेत्ता, राजनेता, शिक्षाविद और प्रखरलेखक और पत्रकार भी थे। सच्चिदानंद ...

Read More »

कायस्थ सम्मलेन का यथार्थ ? महथा ब्रज भूषण सिन्हा

अभी चारो ओर चर्चा गर्म है कायस्थ सम्मेलनों की. मुझे लगा कायस्थों के अच्छे दिन आ गए. कानपुर सम्मलेन, वाराणसी सम्मलेन और अब भोपाल सम्मलेन? सभी सम्मेलनों में लाखों की भीड़ का दावा. करोड़ों का खर्च का अनुमान. चुन-चुन कर राजनितिक कायस्थ नेताओं को आमंत्रण. कहीं कोई छुट न जाए जैसी सतर्कता. वाह क्या कहने ! फेसबुक एवं व्हाट्स एप्प ...

Read More »

कायस्थ युवा दल का दिल्ली दौरा डॉ ओंकारनाथ जी को न्याय के लिये-विवेक श्रीवास्तव

कायस्थ युवा दल के सक्रिय सदस्य राजस्थान, उत्तर प्रदेश ,बिहार के सदस्य कल संगत पंगत कार्यक्रम में सिर्फ इस मुहीम के लिए आये थे उनका मकसद सिर्फ इतना था की डॉ ओंकारनाथ जी हत्या कांड में दोषियों को सजा मिले । इस सम्बन्ध में कल माननीय आर के सिन्हा जी से मिले व उनसे हाथ जोड़कर समाज के एक समाजसेवी ...

Read More »

बिहार मे (शत्रुघ्न)सिन्हा vs (आर के)सिन्हा : कायस्थ आखिर चाहते क्या है ? आशु भटनागर

आशु भटनागर I बिहार की राजनीती मे एक बात सबको पता है की वहां कायस्थों की मर्जी के बिना कोई भी प्रत्याशी नहीं जीत सकता है I और इसी का फायदा पटना से पिछले कई सालो से सांसद रहे कायस्थ नेता शत्रुघ्न सिन्हा उठाते भी रहे है I हालांकि उन्होंने लागातार जीतने के बाद भी आज तक ना पटना, ना ...

Read More »

कौन कहता है की कायस्थ समाज को दिशा नहीं दे पाए ?

आज तीन ऐसी शक्शियातो का जनमदिन है जो अपने अपने क्षेत्र के नायक है , सर्वप्रथम बात करते है लोकनायक जयप्रकाश नारायण की जिन्होंनेगैरकांग्रेस वाद के लिए सम्पूर्णक्रांति की मशाल को उठाया I उसके बाद नम्बर आता है महानायक अमिताभ बच्चन का जिन्होंने फिल्मो मे अपने चरित्र के जरिये समाजवाद की लड़ाई लड़ी I हमेशा दबे कुचलो की आवाज़ बने ...

Read More »