Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » चौपाल (page 2)

चौपाल

कायस्थ समाज की प्रगति के लिए श्री चित्रगुप्त फ़ाउंडेशन के मनोज श्रीवास्तव की सलाह

👍 अगर आप अपने कायस्थ समाज की प्रगति चाहते हो तो नीचे के बिन्दुओं पर अवश्य ध्यान देवे ----- 🌹 ----- (1) हो सके वहॉ तक ज़रूरतमंद कायस्थ को नौकरी पर रखे ! (2) हो सके वहॉ तक कायस्थ को धंधे में आगे बढ़ने के लिये मदद करो ! (3) हो सके वहॉ तक हरेक सामान की ख़रीद कायस्थ की ...

Read More »

क्या अभाकाम में सारंग गुट अपना विलय अब नए गंठबंधन में करेगा या अभी कायस्थ समाज नेताओं की महत्वाकांक्षा में बंटा रहेगा?

कायस्थ समाज में एक बड़ी हलचल हुई , जैसा की हमने पहले भी सुचना दी की उच्च न्यायालय में आमने सामने खड़े अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के दो पक्षों ने अदालत के बाहर समझोते किये और अपने विवादों को ख़तम किया I लेकिन अभी कायस्थ समाज इस प्रकरण के सभी दस्तावेजो के सामने आने का इंतज़ार ही कर रहा था की ...

Read More »

बधाई : सर्वसम्मति से ए के श्रीवास्तव राष्ट्रीय अध्यक्ष और आशीशपारिया राष्ट्रीय संयोजक बनाये गये – ब्रजेश श्रीवास्तव

------ :बधाई हो :----- कल दिनांक 19 जुलाई को इलाहाबाद के पवित्र " संगम " तट पर एक ऐतिहासिक और गौरवपूर्ण निर्णय :--------------- डा . आशीश पारिया " हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष " का ऐतिहासिक और ओजस्वी निर्णय :--- आदरणीय ए के श्रीवास्तव जी का " साहसिक , प्रशंसनीय , आदर योग्य और " समाज का हितकर फैसला :----------- राष्ट्रीय वर्चस्व ...

Read More »

मैं आदरणीय पारिया साहब और ए के श्रीवास्तव साहब और संगठन को एक करने वाले प्रत्येक कार्यकर्ता का आभार व्यक्त करता हूं – ललित सक्सेना

दोस्तों साथियों समाज बंधुओं जय राजस्थाना रॉयल कायस्थ आज बड़ा ही खुशी और हर्ष का दिन है जैसा कि मेरी पिछली पोस्ट में कायस्थ खबर द्वारा प्रकाशित किया गया था आज ठीक वैसा ही हुआ हमारे कायस्थ समाज का सबसे पुराना पारिवारिक संगठन अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के दो ग्रुप एक हो गए हैं आज हमारे कायस्थ समाज में संगठित ...

Read More »

बूंद-बूंद इकट्ठे कर तालाब और सागर बनते हैं। हम सब भी इकट्ठे होकर बहुत कुछ कर सकते हैं -महथा ब्रज भूषण सिन्हा

वह बहुप्रतीक्षित दिन आ गया………………. कायस्थ समाज मे आज एक बहुत बड़ी घटना हुई। अखिल भारतीय कायस्थ महासभा मे गुट का अंत तो नहीं हुआ है, पर पक्ष शब्द मिट गया। हम आशान्वित हैं कि वह दिन भी दूर नहीं जब गुट का भी नामोनिशान नहीं होगा। इस अवसर पर हमारे कुछ भाई के नेत्र सजल हो उठे तो किसी ...

Read More »

सोशल मीडिया पर एक बेटे की फोर्टिस अस्पताल से लड़ाई : अभिनव मजबूर थे ,डॉक्टर भगवान होता है,झूठ तो नहीं बोलेगा…मगर रिपोर्ट आई …………… अभिनव वर्मा की माँ के गाल ब्लैडर में कभी कोई पथरी नहीं थी …………..

कायस्थ खबर डेस्क I नाम अभिनव वर्मा , बंगलौर में जॉब और माँ को हुई एक बीमारी के चलते एक कायस्थ का बुरा अनुभव सोशल मीडिया पर चर्चित हो रहा है , पवन सक्सेना ने इस वाकये को अपनी वाल पर शेयर किया है , आप भी पढ़िये अभिनव वर्मा की माँ ,जो सिर्फ 50 बरस की थीं , पेट ...

Read More »

कायस्थ समाज एक होकर ऐसे घिनौने और झूठे आरोपों को खंड खंड करके रख देगा ! ब्रजेश श्रीवास्तव

सिकंदर द्वारा सम्राट पौरश को बंदी बनाया गया और सिकन्दर द्वारा प्रश्न पूंछा गया की :-- हे पराजित राजा तुम हमारे बंदी हो , अब तुम्हारे साथ कैसा व्यवहार किया जाय : पौरश ने जबाव दिया :-- हे सिकन्दर तू सम्राट हैं और मै भी सम्राट होकर भी तेरा बंदी हूँ , इस लिये जो एक राजा दूसरे राजाओं के ...

Read More »

दुनिया वालों अपने घर में चाहे हम जितना विवाद करें पर अपने परिवार के किसी भी सदस्य के सम्मान पर आँच भी आए, ये बर्दाश्त नहीं करते – डा ज्योति श्रीवास्तव

साथियों, जब भी हम एकता की बातें करते हैं सर्वथा निराशाजनक स्थिति ही दृष्टिगत होती है। हम स्वत:अपनी हास्यास्पद तस्वीर दुनिया के सामने प्रस्तुत करते हैं। परिणामत: बिखरे समाज पर प्रहार किसी के लिए भी बहुत सरल हो जाता है। जबअपने घर में द्वंद्व छिड़ता है, दूसरे लाभ लेते ही हैं। समाज के शीर्षस्थ ही केंद्रबिंदु बनते हैं।आज भी कुछ ...

Read More »

संगठन के चक्रव्यूह के चक्कर में.. कायस्थ समाज का विनाश आरंभ हुआ- आज पारिया जी के पूर्व विरोधी ए के श्रीवास्तव जी द्वारा उनके समर्थन में आने का आह्वान पढ़कर काफी अच्छा लगा- ललित सक्सेना

यदि सिंह अहिंसक हो जाए.. गीदड़ भी शौर्य दिखाते हैं। यदि गरुड़ सन्यासी बन जाए.. तो सांप पनपते जाते हैं। संगठन के चक्रव्यूह के चक्कर में.. कायस्थ समाज का विनाश आरंभ हुआ। सभी युवा साथियों को जय कायस्थॉना रॉयल कायस्थॉना आज हमारे समाज में बड़े ही जोरों शोरों से एक प्रचार प्रसार एक स्थानीय न्यूज़ पेपर कटिंग के सहारे हमारे ...

Read More »

सीधी बात : बीती घटनाओं को पीछे छोड़ आगे बढ़ने के लिए आज कितने लोग तैयार हैं, ए॰के॰ श्रीवास्तव जी के पहल को साधुवाद- महथा ब्रज भूषण सिन्हा

जब एक प्रतिपक्षी पक्ष अपने धुर विरोधी पक्ष को जातिगत एकता का संदेश देता है तो इसके निहितार्थ बहुत बड़े हो जाते हैं। यह संकेत बीज को अंकुरित होने की घटना जैसी है। अगर उचित वातावरण मिला तो वह अंकुरण बड़ा वृक्ष बन सकता है, अन्यथा अंकुर ही नष्ट हो जायगा। बीती घटनाओं को पीछे छोड़ आगे बढ़ने के लिए ...

Read More »