Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » चौपाल » कटाक्ष

कटाक्ष

सर्वानंद सर्वज्ञानी की कलम से……………… मम्मी, मैं कब बाप बनूँगा?

संगठन शब्द आते ही पहली बात जो मन मे उठती है, वह है सरकार द्वारा निबंधित है क्या? उसके बाद दूसरा प्रश्न- अध्यक्ष कौन व्यक्ति हैं? इसका अर्थ यह नहीं कि आप उन्हे जानते हैं अथवा नहीं? तीसरा प्रश्न- संविधान क्या है? अब जब सोच थोड़ी आगे बढ़ती है तो संगठन से जुड़े पदाधिकारियों पर नजर जाती है। कोई हमारा ...

Read More »

सामाजिक पत्थरबाजी में ज़रूरी है मौन का कवच – कवि स्वप्निल

"इन हवाओं में इक उमस है,और हाथों में पत्थर भी। ये तस्वीर उस दुनिया की,हैं जिसे हम सँवारने निकले।।" जब जब पत्थर बाजी की बात आती है, तब तब हमारे जेहन में स्वर्ग से सुंदर घाटी को नर्क की प्रताड़ना देने वाले अलगाववादियों की तस्वीरें खिंच जाती हैं। परन्तु आज ना घाटी की बात करूँगा और ना ही शरीर को ...

Read More »

सर्वानंद सर्वज्ञानी की कलम से……….. दान का हंगामा

वर्तमान में एक ब्रेकिंग न्यूज़ चल रही है. एक व्यक्ति अपने वेतन का 40% हिस्सा कायस्थ समाज कल्याण में खर्च करना चाहता है. सर्वज्ञानी जी को मालुम हुआ कि कई कटोरेबाज आनन-फानन में अपने-अपने कटोरे ठठेरा के पास पॉलिश करवाने के लिए भेजने लगे हैं. कुछ तो पुराने कटोरा लेकर ही दौड़ पड़े हैं. एक अल्पज्ञानी चेला से न रहा ...

Read More »

बेचारे सोनू बाबू,समर्थन कर विरोध,समर्थन का विरोध, बुद्धजीवी बने गतिरोध- कवि स्वप्निल

"हम खेलें तो गिल्ली डण्डा तुम खेलो तो टूर्नामेन्ट" लम्बे अर्से से सियासत को इसी ढर्रे पर लुढ़कते हुए देखता रहा हूँ। परम्परागत राजनीति से लेकर समाज विशेष के एकता व विकास हेतु काम करने वाले संगठन भी इसी ढर्रे पर हैं। वैसे साहब आईये बात अपने समाज की करते हैं, कायस्थ समाज की। बात उस समाज की जहाँ काम ...

Read More »

धीरेन्द्र श्रीवास्तव की खरी खरी : सोनू निगम के प्रकरण में कायस्थ संगठनो की चुप्पी चिन्ता जनक। ऐसा क्यो ?

चाहे समाज विरोघी तत्वो द्वारा भगवान चित्रगुप्त के हँसी उड़ाने का मामला हो चाहे समाज विखण्डक तत्वो द्वारा कायस्थ समाज के आम और खास कायस्थो के अपमान अथवा विरोध का मामला हो ,कतिपय कायस्थ संगठनो/संस्थाओ की आश्चर्यजनक चुप्पी तब और चिन्ता जनक हो जाती है जब वे समाज सेवा के विषय के रूप में कायस्थ पर ही काम करने का ...

Read More »

सैयद शा कादिरी के फतवे को सोनू निगम ने जिस तरह अंजाम दिया, आपके उस जज़्बे को सलाम!!- डॉ ज्योति श्रीवास्तव

कांकर पाथर जोड़ि कै मस्जिद लई बनाय, ता चढ़ि मुल्ला बांग दे का बहिरा भरा खुदाय। वर्षों पहले कही कबीर की वाणी को फिर से अपने शब्दों द्वारा जीवंत करने के लिए सोनू निगम को बधाई एवं साधुवाद !! इतने सालों से कोई हिम्मत नहीं जुटा सका जबकि इस समस्या से त्रस्त सभी थे और कुढ़ते रहते थे। आज फिर ...

Read More »

संगठन, संगठन और संगठनों का खेल -सूत न कपास दो जुलाहों में लट्ठम-लट्ठा? महथा ब्रज भूषण सिन्हा

जय कायस्थ समाज की. आपकी प्रशंसा के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं, शब्द है भी तो लेखनी में स्याही अल्प है मुख से बखान करूँ तो सिर्फ एक ही मुख है. हे मेरे कुल पुरुष भगवान श्री चित्रगुप्त, मेरी जिह्वा पर सरस्वती विराजमान हों, सहस्त्र मुख हों तथा लेखनी में स्याही का समुद्र भर दें, ताकि मैं अपने मुख ...

Read More »

सर्वानंद सर्वज्ञानी जी खबर लाये है : “हम कायस्थ हैं” “आत्मा बिकाऊ है” पोस्ट करने वाले की आत्मा तो कब की बिक चुकी और बार-बार, कई बार बिकी

उत्तर प्रदेश का चुनावी हाल देखकर सर्वानंद सर्वज्ञानी का ज्ञान आजकल कुलांचे भरने लगा है. आज बहुत गंभीर मूड में अपने समाज की बात कर रहे हैं. चुनावी मौसम में उत्तर प्रदेश में कायस्थ लक-दक होकर घुम रहा है कि शायद कहीं कुछ ग्रह-नक्षत्र अनुकूल हो जाए. हाँ भाई कायस्थ सिर्फ भाग्य-भरोसे जीने वाला प्राणी हो गया है. किसी क्षेत्र ...

Read More »

ScamAlertABKM: पारिया गुट के सदस्यता शुल्क घोटाले पर मनीष श्रीवास्तव के तीखे सवाल

अखिल भारतीय कायस्थ महासभा पारिया गुट के २७ नबम्बर को दिल्ली में होने वाले कार्यक्रम के एजेंडे को लेकर कायस्थ खबर ने जो जानकारी अपने पाठको को दी थी I उस पर समाज के कई लोगो की प्रतिक्रियाये हमें मिली , विवाद का केंद्र बने मनीष श्रीवास्तव ने भी  कुछ सवाल हमें भेजे हैं जिनको हम मूल रूप में ही ...

Read More »

करवाचौथ स्पेशल : कायस्थ समाज २४ मिनट अपने समय में से समाज को दे ताकि विवादित संगठन उसनके समय और पैसे से अपनी पत्नियों को पद और सम्मान दिला सके

अजी सम्पादक जी महाराज, एक नया प्रोपेगैंडा  सर्वानंद सर्वज्ञानी के सामने आया है की विवादित संगठन एक पदाधिकारी ने कायस्थ समाज से अपील की है कि यदि हम सब अपनी व्यस्त दिनचर्या के 24 घंटो में सिर्फ 24मिनट नियमित अपने समाज या संगठन को दे तो किसी भी कार्यक्रम या अभियान को असफलता से बचाया जा सकता है। इतना सुनते ही ...

Read More »