Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » चौपाल » कटाक्ष (page 2)

कटाक्ष

सर्वानंद सर्वज्ञानी जी खबर लाये है : हमारे भाईयों ने पांच गाँव क्यों पूरा कायस्थ समाज को ही स्मार्ट बना डाला है –

अजी सम्पादक जी महाराज, जब से सर्वानंद सर्वज्ञानी के कान में यह बात आई है कि कायस्थ एक परिवार है, ख़ुशी का ठिकाना नहीं है. अब दुनिया का कोई व्यक्ति हमसे, यानी इतने बड़े परिवार से टक्कर नहीं ले सकता. यह बात जब हम 10-12 वर्ष के थे, तो पता नहीं था. नहीं तो पांच भाई वाले दुसरे जाति के ...

Read More »

सर्वानन्द जी खबर लाये है : हे भगवान चित्रगुप्त कृपा करो, एक सर्जिकल स्ट्राइक कायस्थ समाज के लिए भी ज़रूरी है

अजी सम्पादक जी महाराज, जय कायस्थ समाज की. जब से मैंने सुना है कि भारत ने पाकिस्तान के सीमा के अंदर घुसकर सर्जिकल ऑपरेशन किया है, हमारी ख़ुशी का ठिकाना नहीं है. पचास सीधे भगवान श्री चित्रगुप्त जी के दरबार में. हमारे मन में भी आया है कि उसी तरह हेलिकोप्टर से लटक कर कायस्थ संगठनो के जाल में कूद ...

Read More »

मुकेश जी, फैजाबाद के कायस्थ लडके का सड़क दुर्घटना में मृत्यु के उपरांत पचास हजार रुपये की घोषित रकम तो दे दीजिए : mbb सिन्हा

अजी सम्पादक जी महाराज, बहुत अच्छी कही मुकेश जी ने. सामाजिक संगठन का राजनितिक बयान. जय हो.. जय हो. अजी काम तो करते रहिये . फैजाबाद के कायस्थ लडके का सड़क दुर्घटना में मृत्यु के उपरांत पचास हजार रुपये की घोषित रकम तो दे दीजिए. कुछ लोग कायस्थ रत्न बन गए हैं. भुल गए ? उनका बायोडाटा तो समाज को ...

Read More »

कायस्थ संगठनो के हालत से : हाँथ–पाँव फूल गए और आँख-कान बंद -महथा ब्रज भूषण सिन्हा

इधर कई दिनों से मैं नेत्र रोग से पीड़ित था फिर कुछ दिन बाद कर्ण रोग से पीड़ित हो गया इसलिए मैं कलम नहीं पकड पा रहा था. पर काफी कोशिश से कलम पकड़ कर कुछ लिखने के लिय तैयार हो पाया हूँ. इसलिए आपके सामने हूँ. हुआ यों कि आजकल लक-दक परिधानों से सुसज्जित गले में गेंदा फूलों की ...

Read More »

क्या राजनैतिक तौर पर सफल राजनेताओं के पास कायस्थ समाज के लिए कोई दूरगामी सोच नहीं ? आशु भटनागर

आशु भटनागर I अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के राष्ट्रीय अधिवेशन में दो बड़े कद के कायस्थ राजनेता मुख्य अतिथि के तोर पर उपस्थित थे I पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुबोध कान्त सहाय और शत्रुघ्न सिन्हा I जिनमे शत्रुघ्न सिन्हा तो सेलिब्रिटी स्टेतस भी मेन्टेन भी करते है I जाहिर तोर पर बड़े नाम होने के कारण इनको सुनने का चार्म भी लोगो ...

Read More »

यूपी चुनाव २०१७ : बड़े राजनैतिक दलों के मुकाबले में कहाँ है कायस्थ राजनैतिक दल ?

कायस्थ राजनैतिक दल जिसका शोर पिछले २ साल से कायस्थ समाज सुन रहा है , असल में सोशल मीडिया से बने ऐसे नेताओं के  बडबोलेपण  से  ज्यदा  कुछ नहीं  साबित होने  जा  रहा है I ऐसे  राजनैतिक दलों की ज़मीनी हकीकत इस कदर खोखली  है की  इनके  चलते राजनैतिक दलों में  कायस्थ नेताओं की स्थिति भी असरकारक नहीं हो पाती ...

Read More »

क्या कायस्थ संगठन ज़मीनी काम के नाम पर अपनी ज़िम्मेदारी से भागते है ? – आशु भटनागर

कायस्थ समाज में यु तो हज़ारो संगठन है I और उतने ही उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष और संयोजक भी I देखा जाए तो राष्ट्रीय अध्यक्ष अब थोडा आउट डेटेड हो गया है , आज कल दौर अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष और संयोजक होने का है I कायस्थ खबर ने  पिछले कुछ हफ्तों की गहमागहमी पर एक आंकलन के बारे में सोचना ही शुरू ...

Read More »

सामायिक ज्ञान का व्यवसाय ही पत्रकारिता है – कायस्थ समाज के लिए पत्रकारिता की जानकारी

बहुत सारे बड़े पत्रकारों ने पत्रकारिता को लेकर अनेक बातें की I बहुत लोगो के अनुसार आदमी पत्रकार बन्ने के बाद विज्ञापन  या नौकरी में पैसे की अपेक्षा नहीं रखनी चाह्यी क्योंकि पत्रकारिता मिशन है उनके अनुसार I तो हमने विकिपीडिया से कुछ कंटेंट लिया है आशा है आपको ये जानकारी पसंद आयेगी सम्पादक कायस्थ खबर  पत्रकारिता (अंग्रेजी : journalism) आधुनिक ...

Read More »

ईमानदार समाजसेवी न्यूज़ पोर्टल्स के दौर में हम व्यवसायिक और भ्रष्ट न्यूज़ पोर्टल हैं , लेकिन आपको भी समाज को ये बताना होगा की आप कहाँ से पैसा ला रहे है ?

पिछले कई दिनों  से  एक  बड़ी बहस उठी  की  व्यवसायिक न्यूज़  पोर्टल  यानी  कायस्थ खबर ने कुछ  इमानदार  और समाज सेवी  न्यूज़ पोर्टल  से TRP में  बाज़ी मार  ली  है I स्वस्थ  प्रतिस्पर्धा  में  इसको  बढावा दिया जाता है और  बाकी लोग भी आगे बढ़ने के लिए अपनी प्राडक्ट की गुणवत्ता सुधारते है पर  खैर यहाँ खेल में  पीछे  रहने ...

Read More »

सर्वानंद जी खबर लाये है : एक रहिन ईर, एक रहिन बीर, एक रहिन फत्ते , एक रहिन हम….

सर्वज्ञानी सर्वानंद जी आज कल होली के मूड में है तो होली के फाग ही गा रहे है आप ने बच्चन जी की एक पुरानी कविता सुनी होगी एक रहिन ईर, एक रहिन बीर, एक रहिन फत्ते , एक रहिन हम, एक रहिन ईर, एक रहिन बीर, एक रहिन फत्ते , एक रहिन हम। पर भांग तनिक ज्यदा हो गयी ...

Read More »