Templates by BIGtheme NET
Home » चौपाल » कटाक्ष (page 2)

कटाक्ष

सामायिक ज्ञान का व्यवसाय ही पत्रकारिता है – कायस्थ समाज के लिए पत्रकारिता की जानकारी

बहुत सारे बड़े पत्रकारों ने पत्रकारिता को लेकर अनेक बातें की I बहुत लोगो के अनुसार आदमी पत्रकार बन्ने के बाद विज्ञापन  या नौकरी में पैसे की अपेक्षा नहीं रखनी चाह्यी क्योंकि पत्रकारिता मिशन है उनके अनुसार I तो हमने विकिपीडिया से कुछ कंटेंट लिया है आशा है आपको ये जानकारी पसंद आयेगी सम्पादक कायस्थ खबर  पत्रकारिता (अंग्रेजी : journalism) आधुनिक ...

Read More »

ईमानदार समाजसेवी न्यूज़ पोर्टल्स के दौर में हम व्यवसायिक और भ्रष्ट न्यूज़ पोर्टल हैं , लेकिन आपको भी समाज को ये बताना होगा की आप कहाँ से पैसा ला रहे है ?

पिछले कई दिनों  से  एक  बड़ी बहस उठी  की  व्यवसायिक न्यूज़  पोर्टल  यानी  कायस्थ खबर ने कुछ  इमानदार  और समाज सेवी  न्यूज़ पोर्टल  से TRP में  बाज़ी मार  ली  है I स्वस्थ  प्रतिस्पर्धा  में  इसको  बढावा दिया जाता है और  बाकी लोग भी आगे बढ़ने के लिए अपनी प्राडक्ट की गुणवत्ता सुधारते है पर  खैर यहाँ खेल में  पीछे  रहने ...

Read More »

सर्वानंद जी खबर लाये है : एक रहिन ईर, एक रहिन बीर, एक रहिन फत्ते , एक रहिन हम….

सर्वज्ञानी सर्वानंद जी आज कल होली के मूड में है तो होली के फाग ही गा रहे है आप ने बच्चन जी की एक पुरानी कविता सुनी होगी एक रहिन ईर, एक रहिन बीर, एक रहिन फत्ते , एक रहिन हम, एक रहिन ईर, एक रहिन बीर, एक रहिन फत्ते , एक रहिन हम। पर भांग तनिक ज्यदा हो गयी ...

Read More »

सर्वानंद जी खबर लाये है : कायस्थ नेता – दिन भर चले अढाई कोस

सर्वज्ञानी सर्वानंद जी को एक खबर मिली. “ दिन भर चले अढाई कोस ” कहावत सुनी होगी. पर हमने एक दूसरी कहावत गढ़ी है, “साल भर चले, और तीन डग भरे.”  आज इस पर रिसर्च करने का मन कर रहा था सो निकल पड़े. ऐसे तो हम सर्वज्ञानी है, सबकुछ जानने का दावा है मेरा, पर कुछ ऐसे समाचार मिल ...

Read More »

कायस्थ खबर वाला बेवकूफवा के देख, हमरा नाम भी काट दिया है न, ठहर जा, समझाइब ओकरा के : सर्वानंद जी अज्ञानी

सर्वानंद जी ने अपने सर्वज्ञान से कुछ ढूंढ निकाला है. अबतक आपने जाना है कि दिशाएँ दस होती है. पर सच मानिए हमारा अपना बुद्धिमान समाज ने कई दिशाएँ विकसित कर ली है. जिसके लिए निकट भविष्य में इस समाज को बहुत बड़ा पुरस्कार भी मिलने वाला है. अबतक के प्रचलित पुरस्कार श्रेणी में इस समाज को देने लायक पुरस्कार ...

Read More »