Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » खबर » जल्दी तालकटोरा स्टेडियम में कायस्थ की राजनीतिक ताकत दिखाएंगे, अब कायस्थ बोलेगा में बोले सुबोध कांत सहाय, रविनंदन सहाय, हरिश्चंद्र श्रीवास्तव, विंध्यवासिनी कुमार ऑर आशुतोष सिन्हा ने दिया साथ का वादा

जल्दी तालकटोरा स्टेडियम में कायस्थ की राजनीतिक ताकत दिखाएंगे, अब कायस्थ बोलेगा में बोले सुबोध कांत सहाय, रविनंदन सहाय, हरिश्चंद्र श्रीवास्तव, विंध्यवासिनी कुमार ऑर आशुतोष सिन्हा ने दिया साथ का वादा

रविवार की शाम कायस्थ समाज के लिए एक सुखद परिणाम लेकर आई कायस्थ खबर ने पहली बार कायस्थ समाज के सभी राजनैतिक और सामाजिक दिग्गजों को एक ही प्लेटफार्म पर लाकर इतिहास रच दिया अपने तरह के पहले ऑनलाइन डिबेट प्रोग्राम अब कायस्थ बोलेगा में कायस्थ खबर के प्रबंध संपादक आशु भटनागर ने सभी दिग्गजों से समाज की राजनीतिक स्थिति और राजनीतिक दलों में उनकी उपेक्षा पर चर्चा की इस चर्चा में पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता सुबोध कांत सहाय, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष हरीश चंद्र श्रीवास्तव, भाजपा एमएलसी प्रभारी विंध्यवासिनी कुमार, समाजवादी पार्टी के एमएलसी प्रत्याशी आशुतोष सिन्हा और आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता संजीव निगम थे । इसके इनके साथ ही समाज के प्रमुख स्तंभों में अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के से रवि नंदन सहाय, कायस्थ पाठशाला के पूर्व उपाध्यक्ष धीरेंद्र श्रीवास्तव, कायस्थ वृंद की मुख्य समनवायिका डॉक्टर ज्योति श्रीवास्तव अखिल भारतीय कायस्थ जागृति मोर्चा के सचिन श्रीवास्तव और चित्रगुप्त फाउंडेशन के अतुल श्रीवास्तव शामिल थे कार्यक्रम की शुरुआत सचिन श्रीवास्तव के ओपनिंग कमेंट से हुई जिसमें कायस्थों की वस्तुस्थिति राजनीतिक पिछड़ेपन के बाद शुरू की गई सचिन ने कायस्थों के गिरते राजनीतिक प्रभाव पर चिंता जताई ऑर कहा कि जैसे ठाकुर या ब्राह्मण सभी जातियों में स्थान पाते है तो कायस्थ क्यूं नहीं पा रहे है । कायस्थों द्वारा भी राजनीति मे जातिवाद करना चाहिये। आज का  कायस्थ किसी भी राजनीतिक दल से खड़े या निर्दलीय खड़े कायस्थ उम्मीदवार को ही समर्थन करता है आम आदमी पार्टी प्रवक्ता संजीव निगम से इस बारे में चर्चा करते हुए मॉडरेटर आशु भटनागर ने पूछा कि आखिर क्या वजह है कि जाति की राजनीति ना करने वाली आम आदमी पार्टी भी उत्तर प्रदेश में जब जाति की राजनीति में उतरती है तो उनके सांसद संजय सिंह 17 से ज्यादा जातियों के नाम लेते हैं मगर कायस्थ समाज को भूल जाते हैं संजीव निगम ने इस बात को स्वीकार करते हुए माना कि उनकी पार्टी में ऐसा हुआ है और इस बात को वह प्रमुखता से पार्टी सांसद और उत्तरप्रदेश प्रभारी संजय सिंह के समक्ष उठाएंगे ताकि समाज की बातें और समाज का मान बना रहे । उन्होंने दावा किया कि आम आदमी पार्टी की राजनीति में कायस्थों को इग्नोर नहीं किया जाएगा और वह अरविंद केजरीवाल ऑर संजय सिंह से मिलकर पूरी कोशिश करेंगे कि कायस्थों को उनकी पार्टी में उचित स्थान मिले। भाजपा प्रदेश हरीश चंद्र श्रीवास्तव ने कहा समाज की स्थिति पर बात करते हुए जीतने के साथ साथ हराना भी सीखना पड़ेगा । जब तक समाज जीतने या दूसरों को हराने की स्थिति में नहीं आएगा तब तक राजनीतिक दलों में उनकी मांग नहीं बढ़ेगी रविंद्र सहाय ने कायस्थों की स्थिति पर चिंता करते हुए कहा कि कायस्थों में एबिलिटी तो बहुत है मगर विनर एबिलिटी नहीं हो पा रही है क्योंकि आजकल चुनाव जातीय संख्या पर लड़े जाने लगे हैं आपकी काबिलियत पर नहीं ऐसे में कायस्थों को अपनी लीडरशिप बढ़ाने के लिए अपने हक मांगने पड़ेंगे पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता सुबोध कांत सहाय ने रविंद्रन सहाय जी का समर्थन करते हुए कहा कि अब वक्त आ गया है जब कायस्थों को अपनी ताकत दिखानी चाहिए और इसके लिए तालकटोरा स्टेडियम में एक राजनीतिक रैली करके सभी राजनीतिक दलों को संदेश देना चाहिए सुबोध कांत सहाय ने अपने साथ बाकी लोगों को बांधने और आगे बढ़ने का भी सूत्र बताया सुबोध कांत सहाय की राजनीतिक रैली का समर्थन लगभग सभी वक्ताओं ने किया धीरेन्द्र श्रीवास्तव ने भी इस बात को लेकर माना कि यह एक बहुत जरूरी कदम होगा जिसके बाद कायस्थों की राजनीतिक स्थिति में बदलाव होगा भाजपा नेता विंध्यवासिनी कुमार ने सुबोध कांत सहाय और रविंद्र सहाय जी के बातों का समर्थन करते हुए कहा यह बात सही है कि हमारी लीडरशिप आजकल कम है और हमको सभी पार्टियों में अपने लिए कहने या फिर भीख मांगने की स्थिति आ गई है लेकिन हमको यह स्थिति बदलनी पड़ेगी और इसके लिए वह समाज में किसी भी तरह के सहयोग करने को तैयार हैं। उन्होंने भी सुबोध कांत सहाय के तालकटोरा स्टेडियम में एक बड़े राजनीतिक रैली या संवाद के महत्व और उसके समर्थन के लिए अपनी सहमति दी समाजवादी पार्टी के एमएलसी प्रत्याशी आशुतोष सिन्हा ने कायस्थों को सभी राजनीतिक दलों में बराबर प्रतिनिधित्व और बराबर हिस्सेदारी की बात करते हुए कहा कि समाज को अपने समाज के किसी भी नेता को किसी भी पार्टी में होने पर समर्थन देने की बात सामने आनी चाहिए क्योंकि अधिकांश लोग यह मानते हैं कि कायस्थ मूलता भाजपा का वोटर है हालांकि मॉडरेटर आशु भटनागर ने उनको इस बात पर फैक्ट करेक्ट करने को कहा और बताया कि बेसिकली कायस्थ समाज का 50% वोटर ही भाजपा का वोटर है बाकी वोटर अन्य दलों में बंट जाता है उन्होंने इस बात को स्वीकारते हुए कहा है कि अगर ऐसा है तो हम इस बात के लिए सभी को बताएंगे और माना भी कि समाजवादी पार्टी ने कम से कम काशी क्षेत्र में एमएलसी प्रत्याशी के तौर पर उनको तारा तो है और कायस्थों को मान भी दिया है कायस्थ अतुल श्रीवास्तव ने समाज में लोगों को सकारात्मक रूप से आगे बढ़ने की भावना पर जोड़ दिया उन्होंने कहा कि अधिकांश समय हम लोग अपना जीवन नकारात्मक बातों को प्रचारित करने में लगा देते हैं इसलिए अगर हम कायस्थों को राजनीतिक तौर पर सामाजिक तौर पर आगे बढ़ाना चाहते हैं तो मैं सकारात्मक पहलुओं पर ध्यान देना होगा राजनीतिक परिदृश्य में कायस्थों के गिरते प्रतिनिधि पर चिंता करते हुए धीरेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा कि हालांकि हमारा वर्तमान बहुत चिंतनीय हैं और हम सभी इस बात के लिए यहां मौजूद भी हैं और उसका मुख्य कारण है कि हम और हमारे प्रतिनिधि हमारी मीटिंग को मैं तो कायस्थों के लिए समर्थन की बात करते हैं मगर अपनी पार्टी में वापस जाने पर शांत हो जाते हैं धीरेंद्र श्रीवास्तव के इस आरोप और खुलासे के बाद लगभग सभी राजनीतिक प्रतिनिधियों ने इस बात का वादा किया कि वह अपनी पार्टी में इस बात को जरूर उठाएंगे कार्यक्रम में देहरादून से कायस्थ वृंद की मुख्य समन्वय का डॉक्टर ज्योति श्रीवास्तव ने इस बात के लिए सहमति जताई कि अधिकांश समय कायस्थ नेताओं का साथ हमारे लोगों को नहीं मिल पाता है और नेताओं की बढ़ती उपेक्षा के कारण समाज के लोग नेताओं से नहीं जुड़ पाते हैं और यह परिस्थिति उत्पन्न होती है उन्होंने धीरेन्द्र श्रीवास्तव के कायस्थ नेताओं के अपनी पार्टी में आवाज ना उठाने के मुद्दे को भी सही ठहराया और कहा कि जब तक हमारे नेता यह नहीं करेंगे तब तक राजनीतिक दलों में कायस्थों की स्थिति में सुधार नहीं हो पाएगा अंत में मॉडरेटर आशु भटनागर ने इस पूरे मीटिंग को एक सूत्र में बांधते हुए कहा आज की मीटिंग के बाद समाज कायस्थों के गिरते राजनीतिक प्रभाव से जितना चिंतित और जागृत दिखाएं उसका परिणाम है कि सभी राजनीतिक दलों ने कायस्थों को सम्मान देना शुरू करा है और यही भावना अगर हम बनाए रखें तो निश्चित ही कायस्थों को आने वाले चुनावों में मान मिलेगा अब कायस्थ  बोलेगा के अगले अंक में उन्होंने आज आए युवाओं के कुछ सवालों को लेकर परिचर्चा का आश्वासन दिया जिसकी घोषणा करेगा

आप की राय

आप की राय

About कायस्थखबर संवाद

One comment

  1. Vinay kumar Srivastava

    मीटिंग का लिंक मुझे नही दिया गया।
    आशू दादा क्या गलती हुई मुझसे??

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*