Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » खबर » आमने सामने : कायस्थ खबर आनलाइन सर्वे के परिणामो से “सामूहिक नेतृत्व की अवधारणा ” पुष्ट होती है : धीरेन्द्र श्रीवास्तव

आमने सामने : कायस्थ खबर आनलाइन सर्वे के परिणामो से “सामूहिक नेतृत्व की अवधारणा ” पुष्ट होती है : धीरेन्द्र श्रीवास्तव

कायस्थ खबर आन लाइन सर्वे में १५०३ वोट पाकर प्रथम स्थान पर रहे धीरेन्द्र श्रीवास्तव आज कायस्थ समाज में एक जाना पहचाना चेहरा है I स्वभाव से म्रद्भाशी और राजनीती में तेज तररार रहे धीरेन्द्र श्रीवास्तव अपने युवा राजनीती के दिनों में पूर्व प्रधानमन्त्री चंद्रशेखर के करीब रह कर काम कर चुके हैं I बहुत कम लोग जानते है पद की लालसा ना रखने वाले धीरेन्द्र ने तत्कालीन पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के समय में भी कोई राजनैतिक पद नहीं लिया और हमेशा कैडर के तोर पर काम करते रहे I आज भी वो चंद्रशेखर के आदर्शो पर ही रह कर सामाजिक  राजनीति करते हैं I कायस्थ समाज के लिए उन्होंने सामूहिक नेत्रत्व की अवधारणा को कायस्थ वृन्द के तोर पर आगे बढ़ाया है I जहा एक और संगठनो में मैं बड़ा और मैं बड़ा की होड़ लगी है वही दूसरी और धीरेन्द्र श्रीवास्तव ने सब संगठनो को एक करके समाजवाद की तर्ज पर कायस्थ वाद को कसने की सफल कोशिश को अंजाम दिया है और लगातार उसको एक ताकत बनाने में लगे है I उसी का परिणाम शायद ये हुआ की उन्हें कायस्थ खबर द्वारा आयोजित सर्वे में इतने लोगो ने अपना प्यार वोट के रूप में परिवर्तित कर दिया I इस सब को लेकर कायस्थ खबर ने धीरेन्द्र श्रीवास्तव से सीधी मुलाकात की

कायस्थखबर  : आप कायस्थ खबर के आन लाइन सर्वे के ५ लोकप्रिय चेहरों में से एक बने है इस पर आपकी क्या प्रति क्रिया है ?

धीरेन्द्र श्रीवास्तव : आनलाइन वोटिंग सुषुप्त होते जा रहे "कायस्थ समाज" में जागृति व चेतना लाने का सफल प्रयास है।इसे बार-बार किया जाना चाहिये।प्रारम्भिक मतदान को प्रतिदर्श मानते हुये अपेक्षा की जा सकती है कि प्रतिस्पर्द्धा बढेगी व आम कायस्थों को नेतृत्व के विकल्प उपलब्ध होते रहेंगे जो "कायस्थ एकता व विकास" के लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहायक होगा।

लोकप्रियता मापने का पैमाना न होकर यह सर्वेक्षण कतिपय समर्थकों व प्रशंसकों को कायस्थ समाज के सूक्ष्म से सूक्ष्म घटनाओ के प्रति सजग एवं सतर्क रहने की चेतावनी देते हुये मठाधीशी प्रवॄत्ति से दूर रहने का सुझाव भी देता है।निश्चित ही वर्तमान परिवेश मे जातिगत आधार को तैयार किया जाना सामयिक आवश्यकता हो सकता है।

आम कायस्थ के रूप मे इस सर्वेक्षण के परिणाम के फलस्वरूप देश-विदेश मिल रही बधाइयो से प्रसन्नता की अनुभूति करते हुये भी कतिपय सक्रिय साथियो व नेताओ में प्राकृतिक रूप से विद्यमान उदासीनता व उपेक्षा से चिन्तित होना स्वाभाविक है जिसे सामूहिक सहयोग से दूर करने का महती प्रयास करुंगा। जो कुछ भी हो सर्वेक्षण के परिणामो से "सामूहिक नेतृत्व की अवधारणा " पुष्ट होती है एवं "कायस्थ एकता व विकास" हेतु तीव्रता से काम किये जाने की आवश्यकता है।

कायस्थखबर  :  इस सर्वे के बाद आपकी समाज के लिए क्या योजनाये है?

धीरेन्द्र श्रीवास्तव : परस्पर "चाय-पान "का सम्बन्ध स्थापित करने, कायस्थ युवतियो की औसत वैवाहिक योग्य आयु को कम करने,बेरोजगारी से निपटने,प्रतिभा प्रोत्साहन,एकाकी होते जा रहे परिवारो की समस्याओ व चुनौतियों से निपटने,खास एवं आम कायस्थों के मध्य सेतु बनाने,सघन कायस्थ सम्पर्क स्थापित करने,भगवान चित्रगुप्त के महात्म्य को घर-घर तक पहुचाने की योजना विकसित की जायेगी।खास स्थान प्राप्त कायस्थों को बडप्पन दिखाना ही पडेगा।मै "आम कायस्थ " हू और आम कायस्थों के लिये पहले की तरह ही संघर्ष करता रहूंगा।

कायस्थखबर  :  बहुत से लोग इस सर्वे की प्रक्रिया को समाज में विघटन करने वाला बता रहे है क्या आप इससे सहमत है ?

धीरेन्द्र श्रीवास्तव : इस सर्वेक्षण को स्थापित एव समर्थ कायस्थों विशेषतया राजनेताओं को चेतावनी सहित सतर्क एव जागरूक करने वाला सर्वे मानता हूं।उन्हे आत्मवलोकन करना चाहिये कि उनके समर्थक/प्रशंसक कायस्थो ने स्वस्फूर्ति मतदान एवं सार्थक/सक्रिय प्रयास क्यों नही किया। यह तो हमारे अपने समाज का प्रथम सर्वेक्षण प्रयास था और इसमे विफल होने के कारण तथाकथित बुद्धिजीवी (बहुत से लोग नही बल्कि कुल संख्या महज 6-7 कायस्थ जिनमे अनेक किसी न किसी के पेडेड कार्यकर्ता है) इसे विघटन प्रयास बता रहे है।यदि किसी गैरजातीय अथवा वाह्य एजेन्सी (प्राय: राजनीतिक दलो द्वारा टिकट वितरण हेतु इस प्रकार के अनुमान लगाये जाते है ) द्वारा इस प्रकार जा सर्वे होता तब ये कथित शुभचिन्तक क्या प्रतिक्रिया देते?

इस सर्वे मे सतर्क न होने व असावधानी को सबक के रूप मे लिया जाना चाहिये एवं भविष्य मे नेता व समर्थक/प्रशंसक परस्पर सीधा सम्वाद बनाये रखते हुये सूक्ष्मतम गतिविधियों ओर निगाह रखने एवं तदनुसार तादात्म्य स्थापित करने की प्रवृत्ति स्वयं मे उत्पन्न करने का सकरात्मक प्रयास करे।

कायस्थखबर  : यूपी 2०१७ के चुनावों में आप कायस्थ समाज को किस स्थिति में पाते है ?

धीरेन्द्र श्रीवास्तव : राजनीति करना मेरा विषय व क्षेत्र नही है। फिर भी मेरा मानना है कि यदि वर्तमान परिस्थितियों विद्यमान रहेंगी तो हमेशा की तरह अपवादों को छोडकर "कायस्थ" टिकट एवं विजय पाने से वंचित रहेगा।"पर्चा-चर्चा-कार्यक्रम" की क्रमानुसार श्रृंखला मे सीधे कार्यक्रम करने की प्रवृत्ति से अपने को अलग करना होगा।अभी समय है।सुधार कर कार्यवाही करने से अपेक्षित परिणाम मिल सकते हैं अन्यथा भविष्य मे भी विलाप व अनर्गल प्रलाप करने एवं लकीर पीटने के अलावा हाथ मे कुछ नही आयेगा जैसे "कायस्थ खबर"सर्वेक्षण परिणामों पर इस समय कुछ लोग कर रहे है।

कुछ सजग साथी हर स्तर ओर आने वाली चुनौतिओ व समस्याओं से निपटने के लिये "कायस्थसमाज" को तत्पर करने का भगीरथ प्रयास कर रहे है।

कायस्थखबर  :  कायस्थ समाज को राजनैतिक तोर पर जाग्रत करने के लिए आपके प्रयास क्या होंगे ?

धीरेन्द्र श्रीवास्तव : "कायस्थवृन्द" कोई संगठन नही बल्कि सामूहिक नेतृत्व की अवधारणा वाली विचारधारा मात्र है जिसमे सभी सक्रिय कायस्थों,नेताओ एवं संगठनों के प्रतिनिधियों को हृदय खोलकर योगदान देना चाहिये।इसकी पाचवी बैठक 14 व 15 मई 2016 को आगरा मे होने जा रही है।
9/10 जनवरी 2016 की फैजाबाद बैठक मे चित्रांश वेल्फेयर के संस्थापक सदस्य आदरणीय श्री ब्रजेश श्रीवास्तव के संरक्षण मे कायस्थ वाहिनी अन्तर्राष्ट्रीय प्रमुख "कायस्थ योद्धा "अनुज पंकज भैया जी के संयोजन में गठित "समिति" के माध्यम से राजनीतिक सम्भावनाओ को तलाश करने का उत्तरदायित्व "अखिल भारतीय कायस्थ महासभा "के राष्ट्रीय सहसंयोजक डा०अरविन्द्र श्रीवास्तव जी एवं "कार्यस्थ सेना"प्रमुख "कायस्थ सिंघम" श्री सुरेन्द्र कुलश्रेष्ठ जी को दिया गया है।अपेक्षा की जानी चाहिये कि आगरा बैठक मे दो सौ से अधिक कायस्थ संगठन/संस्थाओं के प्रतिनिधि एवं सक्रिय साथी सहभागिता करेंगे।निर्णय सामूहिक स्तर पर लिया जायेगा।
मेरा प्रयास "कायस्थ एकता एवम विकास " हेतु आवश्यक प्रणाली को विकसित करने का होगा क्योंकि आम कायस्थ हूं एवं आम कायस्थ की परेशानी व दर्द को समझता हूं। "कायस्थ खबर" द्वारा किये गये सर्वेक्षण को स्वस्थ प्रतिस्पर्द्धा के रूप मे लिया जाना चाहिये।

कायस्थखबर  : कायस्थ खबर के पाठको को कोई सन्देश चाहेंगे 

धीरेन्द्र श्रीवास्तव : ज़रूर आशु जी,आपके लोकप्रिय मीडिया "कायस्थ खबर" के माध्यम से "कायस्थसमाज" से अपील करना चाहूंगा कि हमारे समाज ने अतीत मे अनेक महापुरुष दिये है जिनका राष्ट्र के उत्थान व विकास मे महत्वपूर्ण योगदान रहा है।इसी प्रकार आज भी हमारे समाज के पास सर्वश्री अमिताभ बच्चन,शत्रुघ्न सिन्हा,  रवीन्द्र किशोर सिन्हा,आलोक संजर,प्रदीप माथुर,सतीश निगम,ओम माथुर,सिद्दार्थ नाथ सिंह,राजीव रंजना प्रसाद, मधु श्रीवास्तव,टी०पी०सिंह इत्यादि सरीखे अनेक कायस्थ महानुभाव है जिनका राष्ट्र व कायस्थ समाज के प्रति उल्लेखनीय योगदान रहा है।हमे इन सब मे आस्था व्यक्त करते हुये इनका पुरजोर समर्थन व सहयोग करना चाहिये एवं ईमानदारी से इनके बताये मार्ग का अनुसरण करना चाहिये।हम अपने समाज के एकता व विकास के लिये पथ-प्रदर्शन हेतु इन सभी से आग्रह करेंगे व जरूरत पडी तो "पारिवारिक झगडा" भी करेंगे।

आप की राय

comments

About कायस्थ खबर

कायस्थ खबर(http://kayasthakhabar.com) एक प्रयास है कायस्थ समाज की सभी छोटी से छोटी उपलब्धियो , परेशानिओ को एक मंच देने का ताकि सभी लोग इनसे परिचित हो सके I इसमें आप सभी हमारे साथ जुड़ सकते है , अपनी रचनाये , खबरे , कहानियां , इतिहास से जुडी बातें हमे हमारे मेल ID kayasthakhabar@gmail.com पर भेज सकते है या फिर हमे 7011230466 पर काल कर सकते है आशु भटनागर प्रबंध सम्पादक कायस्थ खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*