Templates by BIGtheme NET
Home » खबर » कायस्थों में साईं के नाम पर पॅकेज टूर बेचेने वालो भगवान् चित्रगुप्त के ४ मंदिरों के टूर पॅकेज बनाओ

कायस्थों में साईं के नाम पर पॅकेज टूर बेचेने वालो भगवान् चित्रगुप्त के ४ मंदिरों के टूर पॅकेज बनाओ

आज एक सन्देश पढ़ कर मन व्यथित हुआ I एक कायस्थ समाज सेवी जो दिल्ली शादी ब्याह के सम्मलेन करवाने के लिए लगे रहेते है, ने  कायस्थों के लिए विशेष रूप से साईं के लिए शिर्डी की यात्रा के लिए विज्ञापन निकाला जिसमे ४-५ हजार में लाने ले जाने जैसी बातें  बड़े लच्छेदार भाषा में लिखी गयी थी

विज्ञापन पढ़ कर मुझे बड़ा अजीब लगा की , दरअसल भगवान् चित्रगुप्त के सबसे बड़े दुश्मन खुद हम कायस्थ ही है , तभी ना हम उनके मंदिरों में जाने की कोशिश करते है और ना देश भर में उनके स्थित  मंदिरों  के प्रति दर्शन करने या साल में एक बार जाने जैसी किसी मुहीम को चलाते है I

मुझे इनकी साईं भक्ति पर बार बार यही याद आता है
दादू दुनिया बावरी कबरे पूजे ऊत जिनको कीड़े खा चुके उनसे मांगे पूत ।

और ये हमारे अधिकाँश कायस्थ समाज सेवियों के हाल है , इनमे कोई साल में एक बार शिर्डी जाएगा , कोई नवरात्र का पहला दिन हर साल शिर्डी मनायेगा , लेकिन भगवान् चित्रगुप्त के मंदिर तक जाने में इनके प्राण सूख जायेंगे , जबकि इनको भी पता है की प्राण निकलने के बाद इनके कर्मो का लेखा जोखा भगवान् चित्रगुप्त ही करेंगे

जब मैं किसी कायस्थ समाज सेवी से पूछता हूँ की क्या वो कभी उज्जैन के अन्कपात मंदिर या पटना के आदि चित्रगुप्त मंदिर  गए है , या जाने की सोचते है तो वो उसके बारे में उदासीन ही दिखाई देते है , और ना ही मैंने किसी कायस्थ समाज सेवी को हर महीने वहां के लिए विशेष यात्रा पॅकेज बनाने जैसी कोई योजना देखि है

ऐसे में सबसे पहले ये जानना ज़रूरी है की ये धाम है कहाँ और कैसे जाया जाए I यू तो भारतवर्ष में भगवान चित्रगुप्त जी के अनेक मंदिर हैं, परन्तु इनमें से पौराणिक एवं एतिहासिक महत्व के प्रथम चार मंदिर, कायस्थों के चार धामों के समतुल्य महत्व रखते हैं। ये महत्वपूर्ण और प्रसिद्व तो हैं ही, प्रश्न है हमारी आस्था और विश्वास का। ये मंदिर निम्न हैं :-

चित्रगुप्त धाम जानकारी

मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले के अंकपात में सिथत शिला मंदिर
नगर के अतिप्राचीन अंकपात क्षेत्र की यमुना तलाई में विराजित भगवान चित्रगुप्त का मंदिर देखने में जितना मनोरम और अद्भुत है उतना ही पौराणिक भी है। जहाँ एक ओर चित्रगुप्त जी के एक हाथ में कर्मों की पुस्तक है वहीं दूसरे हाथ से वे कर्मों का लेखा - जोखा करते दिखलाई पड़ते हैं। इनके हाथ में तलवार भी सुशोभित है। मंदिर में प्रतिष्ठापित मूर्ति के साथ भगवान की दोनों पत्नियाँ इरावति और नंदिनी भी विराजित हैं। जो कि श्री भगवान के कार्यों में योगदान भी देती हैं। इसके अलावा समीप ही धर्मराज की चतुर्भुज मूर्ति भी अत्यंत दुर्लभ हैं। जिसमें भगवान के एक हाथ मंे अमृत कलश, और दो हाथों  में शस्त्र दर्शाया गया है। धर्मराज भी लोगों को आर्शीवाद देकर धर्म के अनुसार आचरण करने की प्रेरणा देते हैं। धर्मराज की मूर्ति के ठीक समीप दोनों ओर उनके दूतों की मूर्तियाँ भी विराजित हैं। धर्मराज की मूर्ति के उपर ब्रह्म, विष्णु और महेश की मूर्तियाँ प्रतिष्ठापित हैं।

ठीक होते हैं रोग
मान्यता के अनुसार मंदिर परिसर स्थित यमुना तलाई के जल के सेवन और यहाँ की जलवायु में विचरण करने से लकवे जैसे रोग तक ठीक हो जाते हैं। वर्तमान में भी कई ऐसे उदाहरण देखे गए हैं जिनके रोग यहाँ आकर ठीक हो गए हैं।
फिर हुई पुर्नस्थापना
कालांतर में श्री चित्र्रगुप्त मंदिर सार्वजनिक न्यास का गठन किया गया। न्यास द्वारा मंदिर के जीर्णोद्धार व नवीन मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा हेतु प्रयास किए गए। 12 जून 1994 के दिन मंदिर परिसर में नवीन मूर्ति की प्राणप्रतिष्ठा की गई।  इस स्थल को श्री चित्रगुप्त धाम के रूप में पहचाना जाता है।
मान्यता है कि मंदिर में केवल कागज, कलम और दवात चढ़ाते ही आपकी सारी मनोकामनाएँ पूर्ण हो जाती हैं। यदि कोई भाग्यहीन हो और अभाव में जीवन जी रहा हो तो उसका भाग्य महज दर्शनों से ही बदल जाता  है। ऐसी महिमा इस पौराणिक नगरी में वर्षों तक तपस्या कर ज्ञान प्राप्त करने वाले भगवान चित्रगुप्त के अलावा किसकी नहीं हो सकती।

अधिक जानकारी आप इसकी वेबसाइट http://www.shrichitraguptadham.com/ से भी ले सकते है

श्री आदि चित्रगुप्त मंदिर पटना  

बिहार के पटना सिटी के दीवान मोहल्ले में, नौजरघाट सिथत ”श्री चित्रगुप्त आदि मंदिर पटना” मगघ की प्राचीन राजधानी पाटलिपुत्र तथा बिहार राज्य के आधुनिक मुख्यालय पटना में, पतित पावनी गंगा के तट पर, दीवान मोहल्ला के नौजरघाट पर सिथत इस ऐतिहासिक चित्रगुप्त मंदिर को पटना के कायस्थों ने श्री चित्रगुप्त आदि की संज्ञा क्यों दी ? यह स्पष्ट नहीं किया गया है। बताया जाता है कि सर्वप्रथम इस मंदिर का निर्माण, नंद वंश के अंतिम मगध सम्राट धनानन्द ने इतिहास प्रसिद्व महामंत्री, चित्रगुप्तवंशी ”राक्षस” ने र्इसा पूर्व कराया था। यह भी कहा जाता है कि इस मंदिर का पुर्ननिर्माण, मुगल सम्राट के नौरत्नों में से एक और वर्तमान जिला औरंगाबाद के मूल निवासी और इतिहास प्रसिद्व शेरशाह सूरी के भी मत्री रह चुके, राजा टोडरमल तथा उनके नायब रहे कुवर किशोर बहादुर ने करवाकर, कसौटी पत्थर की भगवान चित्रगुप्तजी की मूर्ति, हिजरी सन 980 तदानुसार र्इसवीं सन 1574 में स्थापित करार्इ थी। र्इसवीं सन 1766 में राजा सिताबराय ने मंदिर के चारों ओर की भूमि, मंदिर के नाम करवाकर चारदीवारी बनवार्इ थी। बाद में राजा सिताबराय के पौत्र, महाराज भूपनारायण सिंहं ने, जयपुर से मंगवाये गये, नक्काशीदार पत्थरों से मंदिर को भव्यता प्रदान की थी। परन्तु देख-रेख के अभाव में, मंदिर जीर्ण-शीर्ण ही नहीं हो गया, वरन मंदिर में स्थापित कसौटी पत्थर की मूर्ति तस्करों द्वारा चुरा ली गर्इ थी। तत्पश्चात संवत 2019, तदानुसार र्इसवीं सन 1962 में, पटना सिटी निवासी, चित्रगुप्तवंशी राजा रामनारायण वंशज राय मथुरा प्रसाद जी ने मंदिर में, स्फटिक पत्थर की मूर्ति स्थापित करवाकर, मंदिर को मंदिर की प्रतिष्ठा दिलार्इ थी। यही मूर्ति 11.11.2007 तक इस मंदिर में शोभायमान थी। इस मंदिर में एक शिव मंदिर भी है। अव्यवस्था के कारण अराजक तत्वों ने उपेक्षित मंदिर परिसर पर अवैध कब्जा करके परिसर को बहुत छोटा कर दिया था।

श्री कमल नयन श्रीवास्तव जी के ही प्रयासों से आज पटना का समृद्व कायस्थ वर्ग, मंदिर की व्यवस्था से जुड़कर अपना सार्थक योगदान कर रहा है। समिति के समक्ष सबसे महत्वपूर्ण तथा दुरुह कार्य था, दशकों से मंदिर परिसर पर स्थापित अवैध कब्जे को हटाकर लाखों रुपयों के व्यय से, परिसर के परकोटे का निर्माण करवाना। आज इस मंदिर के निर्माण और विस्तार कार्य से, पटना के राजनीतिज्ञ, व्यवसायी, उधमी, डाक्टर, इन्जीनियर तथा सेवा निवृत शासकीय अधिकारी अपने अन्तरमन से जुड़े हुए हैं। यह मंदिर आज पटना के कायस्थों की काशी बन चुका है और धार्मिक एवं सांस्कृतिक गतिविधियों का केन्द्र बनता जा रहा है। मंदिर के स्वप्न को आकार देने के प्रयास में डा. नरेन्द्र प्रसाद जी के प्रबंध समिति का अध्यक्ष बनने तथा पटना के अग्रणी चित्रांशों यथा श्री शिवकुमार सिन्हाजी, अध्यक्ष, चित्रगुप्त समाज, बिहार, प्रसिद्व असिथ सर्जन – पदमश्री डा. गोपाल प्रसाद सिन्हा जी, बिहार के पूर्व पुलिस महानिदेशक श्री आर.आर.प्रसाद तथा राज्य सभा सांसद  व उधमी श्री रवीन्द्र किशोर सिन्हा , राजन श्रीवास्तव आदि के जुड़ने के बाद आर्इ। परिसर को काफी सीमा तक मुक्त कराया जा चुका है। सोने में सुहागा यह है कि राजा टोडरमल द्वारा स्थापित और बाद में चोरी हो गर्इ कसौटी पत्थर की भगवान चित्रगुप्त जी की मूर्ति मिल गर्इ जिसके लिए ३०० करोरः की निजी बैंक गारंटी २००६ में ज्य सभा सांसद  व उधमी श्री रवीन्द्र किशोर सिन्हा ने  दी  है

तमिलनाडू के काचीपुरम (पौराणिक-काचीपुरी) का श्री चित्रगुप्त स्वामी मंदिर :-
दक्षिण भारत के तमिलग्रन्थ करणीगर पुराणम के साथ ही ”विष्णु धर्मोत्तर पुराण” में भी श्री चित्रगुप्त स्वामी के नाम से ज्ञात श्री चित्रगुप्त वशंज माने गये ”करुणीगर कायस्थों” का उल्लेख मिलता है। इन्हीं श्री चित्रगुप्त स्वामी का एक भव्य मंदिर, मंदिरों की नगरी काचीपुरम में नगर के मध्य में सिथत है। दक्षिण भारत के तमिल क्षेत्र में इन करणीगरों की मान्यता वैसी ही है जैसी उत्तर भारत के बारह चित्रगुप्तवंशी कायस्थों की। परन्तु, ”करुणीगर पुराणम” के अनुसार श्री चित्रगुप्त स्वामी एक नीला देवी से भगवान सूर्य के पुत्र हैं। श्री चित्रगुप्त स्वामी का मंदिर, काचीपुरम नगर के मध्य में, श्री रामकृष्ण आश्रम से लगभग एक फलाग की दूरी पर एक ऊचे चबूतरे पर सिथत है। यह चबूतरा इतना ऊचा है कि कोर्इ भी दर्शनार्थी नीचे खड़े होकर, मंदिर के गर्भगृह में स्थापित मूर्ति के दर्शन नहीं कर सकता, उसे चबूतरे पर ऊपर चढ़ने के बाद ही श्री चित्रगुप्त स्वामी के दर्शन प्राप्त हो सकते हैं। मंदिर का स्थापत्य बहुत सुन्दर, भव्य और गरिमामय है। मंदिर के गर्भ गृह में, हाथों में कलम दवात लिये हुये भगवान चित्रगुप्त स्वामी के साथ ही देवी कार्नकी की कास्य प्रतिमा स्थापित है।

श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर अयोध्या जिला फैजाबाद (उत्तर प्रदेश)
”श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर” वर्तमान में, सरयू नदी के दक्षिण, नयाघाट से फैजाबाद, राजमार्ग पर सिथत तुलसी उधान से लगभग 500 मीटर पूरब दिशा में, डेरा बीबी मोहल्ले में, बेतिया राज्य के मंदिर के निकट है। वैसे नयाघाट से मंदिर की सीधी दूरी लगभग एक किमी. होगी। पौराणिक गाथाओं के अनुसार, स्वंय भगवान विष्णु ने इस मंदिर की स्थापना की थी और धर्मराज जी को दिये गये वरदान के फलस्वरुप ही धर्मराज जी के साथ इनका नाम जोड़ कर इस मंदिर को ‘श्री धर्म-हरि मंदिर’ का नाम दिया है। श्री अयोध्या महात्मय में भी इसे श्री धर्म हरि मंदिर कहा गया है। किवदंति है कि विवाह के बाद जनकपुर से वापिस आने पर श्रीराम-सीता ने सर्वप्रथम धर्महरि जी के ही दर्शन किये थे। धार्मिक मान्यता है कि अयोध्या आने वाले सभी तीर्थयात्रियों को अनिवार्यत: श्री धर्म-हरि जी के दर्शन करना चाहिये, अन्यथा उसे इस तीर्थ यात्रा का पुण्यफल प्राप्त नहीं होता। अयोध्या के इतिहास में उल्लेख है कि सरयू के जल प्रलय से अयोध्या नगरी पूर्णतया नष्ट हो गर्इ थी और विक्रमी संवत के प्रवर्तक सम्राट विक्रमादित्य ने जब अयोध्या नगरी की पुनस्र्थापना की तो सर्वप्रथम श्री धर्म हरि जी के मंदिर की स्थापना करार्इ थी।

मंदिर की व्यवस्था के संचालन हेतु, सुल्तानपुर निवासी मुंशी बिन्देश्वरी प्रसाद जी ने, अठारह बीघे भूमि दान की थी, परन्तु ब्राहमण पुजारी ने उस जमीन को अपने नाम करवाकर, खुर्द-बुर्द कर दिया था। सन 1882 र्इ. में एक्सट्रा असिस्टेन्ट कमिश्नर श्री महेश प्रसाद जी के प्रयासों से ”कायस्थ धर्म सभा अयोध्या” की स्थापना हुर्इ थी और फैजाबाद के श्री शिवराज सिंह जी वकील सभा के मंत्री बने थे। अत: पौराणिक और ऐतिहासिक महत्व का श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर कायस्थों के चारों धामों में दूसरे स्थान का महत्व रखता है।

 

इसलिए कायस्थों में टूर पॅकेज बनाने वाले लोगो से निवेदन है की वो इन मंदिरों के लिए टूर पॅकेज बनाए ताकि कायस्थ अपने ही इतिहास से जुड़ सके और आपके आने से इन मंदिरों पर लोगो का विश्वाश भी जाग्रत हो

आप की राय

comments

About कायस्थ खबर

कायस्थ खबर(http://kayasthakhabar.com) एक प्रयास है कायस्थ समाज की सभी छोटी से छोटी उपलब्धियो , परेशानिओ को एक मंच देने का ताकि सभी लोग इनसे परिचित हो सके I इसमें आप सभी हमारे साथ जुड़ सकते है , अपनी रचनाये , खबरे , कहानियां , इतिहास से जुडी बातें हमे हमारे मेल ID kayasthakhabar@gmail.com पर भेज सकते है या फिर हमे 8826511334 पर काल कर सकते है आशु भटनागर सम्पादक कायस्थ खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*