Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » चौपाल » कटाक्ष » ScamAlertABKM: पारिया गुट के सदस्यता शुल्क घोटाले पर मनीष श्रीवास्तव के तीखे सवाल

ScamAlertABKM: पारिया गुट के सदस्यता शुल्क घोटाले पर मनीष श्रीवास्तव के तीखे सवाल

अखिल भारतीय कायस्थ महासभा पारिया गुट के २७ नबम्बर को दिल्ली में होने वाले कार्यक्रम के एजेंडे को लेकर कायस्थ खबर ने जो जानकारी अपने पाठको को दी थी I उस पर समाज के कई लोगो की प्रतिक्रियाये हमें मिली , विवाद का केंद्र बने मनीष श्रीवास्तव ने भी  कुछ सवाल हमें भेजे हैं जिनको हम मूल रूप में ही आपके सामने रख रहे है

ज़रुर पढ़े : #ScamAlertABKM: अखिल भारतीय कायस्थ महासभा में एक बार फिर फिर से बड़े घोटाले की तैयारी .. अब पारिया गुट की सदस्यता शुल्क के नाम पर उगाही जारी

1-क्या abkm का सदस्यता लेना और देना और कोई सदस्यता शुल्क लिया जा सकता है?
abkm का मामला इलाहाबाद हाई कोर्ट के विचाराधीन है और फैसला कभी भी आ सकता है। इस लिए कोई भी सदस्यता शुल्क देने से बचे और हो सके ऐसे पदाधिकारियो और स्वयम्भू लोगो को कहे की संगठन के कोर्ट के मुकदमे को लड़कर क़ानूनी रुप से बैध हो कर आगे बढ़े। परिया गुट जो अब 11,21,31,51 रूपये की सदस्यता शुल्क को फर्जी तरीके से 11,000Rs, 21,000Rs,31,000Rs,51,0000Rs करने की बात करते है सब सुनियोजित रूप से एक प्रकार का चंदबाजी और वसूली का प्रकार छोड़ कर कुछ नहीं है। abkm से इसका कोई मतलब नहीं है।

2। abkm के नए सदस्यों और स्वम्भू नेताओ द्वारा चन्दा किस बैंक अकाउंट में लिया जा रहा है और वो अकाउंट कब खुला और क्या वो बैलिड है?

एकदम नहीं।
इस लिए किसी भी तरह के चंदे से बचे।

3।आखिर परिया गुट क्यों हाई कोर्ट की तारीखों से भागता है और अलग जगह समाज से चंदे उगाही के पर्यास में रहता है?
इसका जबाब वो।खुद देंगे।

आप की राय

comments

About कायस्थ खबर

कायस्थ खबर(http://kayasthakhabar.com) एक प्रयास है कायस्थ समाज की सभी छोटी से छोटी उपलब्धियो , परेशानिओ को एक मंच देने का ताकि सभी लोग इनसे परिचित हो सके I इसमें आप सभी हमारे साथ जुड़ सकते है , अपनी रचनाये , खबरे , कहानियां , इतिहास से जुडी बातें हमे हमारे मेल ID kayasthakhabar@gmail.com पर भेज सकते है या फिर हमे 8826511334 पर काल कर सकते है आशु भटनागर सम्पादक कायस्थ खबर

One comment

  1. मै मनीष जी से यह जानना चाहता हूँ ए.बी.के ऍम कौन सा असली हैं १)ए बी के एम् -सारग गुट २)ए के श्रीवास्तव गुट या ३ ए बी के एम् प्रिय गुट .सबसे पुराना गुट १ नंबर का है जो अब भी करियरत है तब २ और ३ की जरूरत कियो. किआ यह राष्ट्रीय अधियक्ष बनने की लालसा तो नहीं .एक नाम से किया तीन ग्रुप बनाने की किआ आवस्यकता थी किआ यह जनता को भ्रीमत नहीं कर रहा है किया सब एक नहीं हो सकते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*