Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » चौपाल » आइकन विवाद में अब महथा ब्रज भूषण सिन्हा के तीखे सवाल : हरिश्चन्द्र नाम रख लेने से कोई हरिश्चन्द्र नहीं हो जाता, अलग संस्था की क्या जरुरत थी? वर्तमान संस्था में ही आवश्यक सुधार कर कार्य किया जा सकता था

आइकन विवाद में अब महथा ब्रज भूषण सिन्हा के तीखे सवाल : हरिश्चन्द्र नाम रख लेने से कोई हरिश्चन्द्र नहीं हो जाता, अलग संस्था की क्या जरुरत थी? वर्तमान संस्था में ही आवश्यक सुधार कर कार्य किया जा सकता था

आइकन के स्थापित या पुनर्स्थापित होने पर विवाद बढ़ते ही जा रहे है , इसी क्रम में रांची से विख्यात कायस्थ चिन्तक महथा ब्रज भूषण सिन्हा ने भी अपने विचार प्रस्तुत किये है I लेखक के विचारों के लिए कायस्थ खबर का उनसे सहमत होना आवश्यक नहीं है , कायस्थ खबर सभी पक्षों का सम्मान करता है इसलिए सभी को उनका पक्ष रखने की कोशिश करता है -- जानिये महथा ब्रज भूषण सिन्हा ने क्या कहा

नेशनल कायस्थ कांफ्रेंस (All India Kayasth Conference) को शिथिल या समाप्त हुए करीब 80 वर्ष से ज्यादा बीत चुके हैं. यह निबंधित संस्था भी नहीं थी. इसके बाईलॉज़ भी अनुपलब्ध हैं. तथा इसके जीवित सदस्य / पदाधिकारी की उपलब्धता की संभावना भी दूर-दूर तक नजर नहीं आती. ऐसे में इसे पुनर्जीवित करने का प्रयास सिर्फ मन को संतोष देनेवाली बात ही हो सकती है.

ज़रूर पढ़े : आशु भटनागर ने क्या किये थे आइकन और राष्ट्रीय कायस्थ महापरिषद से सवाल 

कायस्थ समाज में संगठन बनते रहे हैं अतः इसे भी एक नयी संगठन ही माना जाएगा. अगर हमारे समाज के भाईयों को यह महसूस हो रहा है कि एक नयी संगठन की जरुरत है तो इसमे कोई गलत बात भी नहीं है. ऐसे तो इसे गठित करने का प्रयास जिन लोगों द्वारा किया जा रहा है या किया गया है वे सभी किसी अन्य संस्था के पदाधिकारी / सदस्य ही हैं. तो प्रश्न उठता है कि समाज को सही दिशा देने अथवा अनछुए सामाजिक कार्यों को करने के लिए अलग संस्था की क्या जरुरत थी? वर्तमान संस्था में ही आवश्यक सुधार कर कार्य किया जा सकता था.

ज़रूर पढ़े : abkm को लेकर आइकन पर मनीष श्रीवास्तव के आरोप

हरिश्चन्द्र नाम रख लेने से कोई हरिश्चन्द्र नहीं हो जाता, बल्कि उसके आदर्शों पर चलने के लिए बिना विचलित हुए अनेक कंकडीली, कंटकित राहों पर चलने का दम-ख़म रखना होता है. इसके बावजूद, अगर यह संगठन अच्छा कार्य करने की इच्छा शक्ति से लबरेज है तो समाज में स्वागत है. प्रयासरत सभी पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं को बधाई एवं संगठन पुष्पित-पल्लवित हो, की शुभकामनाएं.
- महथा ब्रज भूषण सिन्हा

आप की राय

comments

About कायस्थ खबर

कायस्थ खबर(http://kayasthakhabar.com) एक प्रयास है कायस्थ समाज की सभी छोटी से छोटी उपलब्धियो , परेशानिओ को एक मंच देने का ताकि सभी लोग इनसे परिचित हो सके I इसमें आप सभी हमारे साथ जुड़ सकते है , अपनी रचनाये , खबरे , कहानियां , इतिहास से जुडी बातें हमे हमारे मेल ID kayasthakhabar@gmail.com पर भेज सकते है या फिर हमे 7011230466 पर काल कर सकते है आशु भटनागर प्रबंध सम्पादक कायस्थ खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*