Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » खबर » नॉएडा@41 .. नॉएडा में समाज के साथ कंधा मिला कर चल रहे हैं ये कायस्थ

नॉएडा@41 .. नॉएडा में समाज के साथ कंधा मिला कर चल रहे हैं ये कायस्थ

कायस्थ खबर डेस्क I १७ अप्रैल २०१७ , नॉएडा को आज स्थापना के ४१ वर्ष पुरे हो गए है I ऐसे में कायस्थ खबर ने नॉएडा के कुछ ऐसे कायस्थों  की जानकारी निकाली है जो नॉएडा के विकास में इन ४१ सालो में साथ रहे और लगातार समाज हित में आगे आ रहे है

महेश सक्सेना : नॉएडा की शुरुआत से ही नॉएडा लोक मंच के जरिये अगर नॉएडा के लिए किसी ने काम किया है तो महेश सक्सेना का नाम लोग ज़रूर लेंगे I महेश सक्सेना यूँ तो नॉएडा लोकमंच  के जरिये कई तरह के कार्यक्रमों में जुड़े रहते है I लेकिन नॉएडा के सेक्टर ९४ में अंतिम निवास बनवाने की लड़ाई उन्होंने ही लड़ी I आज भी नॉएडा के लिए हर छोटी बड़ी अधिकारों की लड़ाई में महेश सक्सेना नॉएडा लोक मंच के जरिये काम करते रहेते है

ज्योति सक्सेना : यु तो ज्योति सक्सेना नॉएडा में ४० सालो से ही है और गरीबो बेसहारो के लिए लगातार काम करती रही है I लेकिन उनका ॐ विश्रांति संस्थान के जरिये बुजुर्गो के लिए चलाये जा रहे वृद्ध आशरम का कोई मुकाबला नहीं I ज्योति सक्सेना पिछले ३० सालो से इस संस्था को चला रही है , जिसका नया भवन अब जेवर में भी बनकर तैयार हो चुका है I इनके अलावा ज्योति अब तक सैकड़ो आई कैम्प और ब्लड डोनेशन कैम्प लगवा चुकी है I पिछले ही दिनों गरीबो महिलाओं के लिए इन्होने सिलाई सेंटर भी शुरू किये है

आर के सिन्हा : नॉएडा में शायद ही आर के सिन्हा के नाम से कोई अपरिचित हो , आर के सिन्हा आज सबसे अमीर सांसद के साथ साथ भारत की सबसे बड़ी सिक्योरिटी एस आई एस के चेयरमैन भी हैं I शायद ही ऐसा कोई दिन जाता हो जब आर के सिन्हा मदद के लिए उनके पास आये किसी व्यक्ति को खाली हाथ वापस भेजते हो I आर के सिन्हा खुद कहते है की भगवान् से उन्हें सब कुछ मिला है अब बस वो समाज के ज़रूरतमंद लोगो की सहायता से ही भगवान् का धन्यवाद करना चाहते है

राजन श्रीवास्तव : समाज सेवा नॉएडा पिछले १० सालो में अगर कोई नाम अपनी पहचान बनाया है तो वो है राजन श्रीवास्तव , आज नॉएडा का  कोई ही व्यक्ति , राजनेता और समाज सेवी होगा जो राजन श्रीवास्तव को उनके समाज सेवा के चलते ना जानता हो , राजन आज नॉएडा में गरीबो के मसीहा की तरह हैं , जिनको बस पता चले और राजन वहां मौजूद होते हैं I चाहे गरीब बच्चो को साइकिल बटवानी हो , या 5 रूपए में नॉएडा में खाना खिलवाना हो , या फिर समाज के गरीब बच्चो के लिए शिक्षा के काम हो , राजन श्रीवास्तव आपको हर जगह मिलेंगे I राजन ने पिछले ही दिनों एक फ्री ओपीडी भी शुरू की है जिसमे अब तक हजारो लोग  फायदा उठा सकते है I आने वाले समय में राजन उच्च शिक्षा को लेकर  एक बड़ी योजना पर काम कर रहे है जिससे गरीब छात्रो को कोचिंग की सुविधा भी मिल सके

आर एन श्रीवास्तव : पेशे से वकील रहे नॉएडा में आर एन श्रीवास्तव एक जाना पहचाना नाम है I आर एन पिछले ३० सालो से नॉएडा लोक मंच , लायंस क्लब और नॉएडा चित्रगुप्त सभा से जुड़े रहे  है I आर एन श्रीवास्तव समाज के लिए कामो में नॉएडा लोक मंच और लायंस क्लब के जरिये अपना सहयोग देते रहते हैं

आर डी श्रीवास्तव : पेशे से वैज्ञानिक रहे आर डी श्रीवास्तव पिछले ३० सालो से नॉएडा में समाज सेवा के कार्यो में लगे हुए हैं I चाहे वो कायस्थ समाज के हित की बात हो या सर्व समाज की आर डी हमेशा आपको आगे मिलेंगे , स्व एम् जी भटनागर के साथ नॉएडा चित्रगुप्त सभा को आगे लाने का श्री भी आर डी श्रीवास्तव को ही जाता है

विशाल श्रीवास्तव :  कायस्थ समाज में अगर कोई चुपचाप , बिना कोई आवाज़ के काम कर रहा है तो वो हैं विशाल श्रीवास्तव I बच्चो को लेकर इनके प्रयास वाकई सराहनीय हैं I हर साल बच्चो के लिए प्रतियोगिताये करवा और उनके विकास के लिए विभिन्न आयोजन करना इनका काम है

गौतम ऋषि (श्रीवास्तव ) : गौतम श्रीवास्तव अब गौतम ऋषि के नाम से जाने जाते है , गौतम गायो के लिए विशेष अभियान से जुड़े है और समाज को गाय पालन और भारतीय संस्क्रती को लेकर जागरूक करने की मुहीम में लगे है

सुधीर श्रीवास्तव : पहले पत्रकार और अब उधमी बने सुधीर श्रीवास्तव नॉएडा में उधमी की संस्था NEA के उपाध्यक्ष है I सुधीर नॉएडा के उधमियो की आवाज़ बन कर उनके समब्ध में कोई भी लड़ाई लड़ने को तैयार रहेते है I

संजय श्रीवास्तव : पेशे से उधमी और बीजेपी की राजनीती में अपनी पहचान लखने वाले संजय श्रीवास्तव  भी पिछले २० सालो से नॉएडा में अपने समाज सेवा के लिए जाने जाते है I बनारस के रहने वाले संजय श्रीवास्तव डा महेश शर्मा के साथ समाज के कार्यो में लगे रहते है I हमेशा पर्दे के पीछे रहने वाले संजय नॉएडा में संघ के एक प्रमुख कार्यकर्ता भी हैं

मनोज श्रीवास्तव : मनोज श्रीवास्तव यु तो दिल्ली में रहते हैं लेकिन कैलाश हॉस्पिटल से जुड़े होने के कारण नॉएडा के ही हो कर रह गए है I आज भी स्वास्थ सम्बन्धी किसी भी परेशानी के लिए लोग मनोज श्रीवास्तव को बेहिचक याद करते है और मनोज ने भी आज तक कभी किसी को निराश नहीं किया है

आशु भटनागर : नॉएडा में कायस्थों की आवाज़ बन कर उभरे आशु भटनागर यु तो पिछले कुछ सालो से ही सक्रीय हुए है और नॉएडा के सभी प्रमुख स्तभों के साथ अपना सहयोग दे रहे है I लेकिन बेहद कम समय में ही आशु समाज में कायस्थों की राजनैतिक और सामाजिक पहचान की संघेर्ष की लड़ाई को आगे लाये है और अब सर्व समाज के साथ आगे बढ़ रहे है

संजय श्रीवास्तव(ग्रेटर नॉएडा ) : ग्रेटर नॉएडा में कांट्रेक्टर के तोर पर काम करने वाले संजय श्रीवास्तव यु तो हमेशा परदे के पीछे रह कर ही काम करना पसंद करते है लेकिन समाज में उनके कामो की लिस्ट भी बहुत बड़ी रही है I गुटबाजी से दूर संजय सभी के साथ दिखाई पड़ते है I

विवेक श्रीवास्तव (विक्कू) : बेहद कम उम्र में ही समाज सेवा से जुड़े विवेक श्रीवास्तव का जिक्र किये बिना ये लिस्ट अधूरी ही रहेगी I शारदा हासिपटल से जुड़े विवेक समाज हित और स्वास्थ्य सम्बन्धी कार्यो के कामो में हमेशा आगे रहते है I हालांकि कभी कभी विवादों में भी आये विक्कू का समाज में योगदान नकारा नहीं जा सकता है

आप की राय

आप की राय

About कायस्थ खबर

कायस्थ खबर(http://kayasthakhabar.com) एक प्रयास है कायस्थ समाज की सभी छोटी से छोटी उपलब्धियो , परेशानिओ को एक मंच देने का ताकि सभी लोग इनसे परिचित हो सके I इसमें आप सभी हमारे साथ जुड़ सकते है , अपनी रचनाये , खबरे , कहानियां , इतिहास से जुडी बातें हमे हमारे मेल ID kayasthakhabar@gmail.com पर भेज सकते है या फिर हमे 7011230466 पर काल कर सकते है आशु भटनागर प्रबंध सम्पादक कायस्थ खबर

One comment

  1. ReikimasterSharadsrivastav

    अच्छा प्रयास ।
    हर जिले के वर्तमान में किसी भी पार्टी/संस्था से जुड़े सक्रिय कायस्थों और विभिन्न क्षेत्रों के प्रमुख कायस्थों (वर्तमान और अतीत के )उनकी उपलब्धियों और क्षमताओं की जानकारी इकट्ठा करके डायरेक्टरी बनाई जानी चाहिए ।
    कई बार हम सब कहते हैं कि सभी पार्टियां कायस्थों की उपेक्षा करती हैं पर कई बार जब होता है कि अपने समाज से दस-बारह लोगों का नाम दो जो चुनाव लड़ने के लिए तैयार हों तो पता चलता कि कोई तैयार ही नहीं हो रहा और जो हामी भरता है वह बस सड़क छाप ही है ना तो अपने समाज में और न अन्यत्र कोई उसकी पहचान है ।
    ऐसे में डायरेक्टरी मददगार हो सकती है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*