Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » खबर » कायस्थ खबर एक्सक्लूसिव: कायस्थों को लेकर समाजवादी पार्टी और भाजपा में प्रथमिकता समय की मांग है

कायस्थ खबर एक्सक्लूसिव: कायस्थों को लेकर समाजवादी पार्टी और भाजपा में प्रथमिकता समय की मांग है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गढ़ बनारस में उत्तर प्रदेश में हुए एमएलसी चुनावों में समाजवादी पार्टी के टिकट पर स्नातक प्रत्याशी आशुतोष सिन्हा की जीत में उत्तर प्रदेश में कायस्थों को ना सिर्फ उत्साहित किया है बल्कि उत्तर प्रदेश की राजनीति में कायस्थों की जरूरत को महसूस किए जाने लगा है ।

बीते दिनों आशुतोष सेना की जीत के बाद लखनऊ में अखिलेश यादव ने कायस्थ समाज से अपील करते हुए कहा कि कायस्थ समाज को 2022 में समाजवादी पार्टी की सरकार बनाने के लिए अभी से मेहनत शुरू कर देनी चाहिए उन्होंने आगे कहा शिकायत समाज से आने वाले डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद लोकनायक जयप्रकाश नारायण की स्मृति को यादगार बनाने का काम समाजवादी पार्टी ने ही किया है

कायस्थ समाज के लोग अभी इस प्रतिक्रिया पर जश्न मना ही रहे थे की उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री तथा सरकार के प्रवक्ता और कायस्थ समाज से आने वाले एकमात्र भाजपा नेता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने अखिलेश यादव पर पलटवार करते हुए कायस्थ समाज को बहकाना बंद करे सिद्धार्थ नाथ सिंह ने अखिलेश को जवाब देते हुए कहा कि कायस्थ समाज राष्ट्रवाद के साथ चलता है ना कि जातिवाद के साथ उन्होंने आगे कहा कि कायस्थ समाज स्वामी विवेकानंद सुभाष चंद्र बोस डॉ राजेंद्र प्रसाद लाल बहादुर शास्त्री जयप्रकाश नारायण खुदीराम बोस बिपिन चंद्र पाल जैसी महान विभूतियों का अनुसरण करने वाला है

सिद्धार्थ अखिलेश यादव पर पलटवार करते हुए यही नहीं रुके उन्होंने कहा अगर अखिलेश यादव कायस्थों के इतने ही बड़े हितैषी थे तो अपनी कैबिनेट में किसी कायस्थ को स्थान क्यों नहीं दिया उन्होंने कहा कि राजनाथ सिंह के मुख्यमंत्री काल में हरीश चंद्र श्रीवास्तव कैबिनेट में स्थान दिया गया था जबकि 15 साल बाद बनी भाजपा की सरकार ने फिर से समाज को सम्मान दिया और उन्हें मंत्री बनाया है आपको बता दें कि समाजवादी पार्टी में कानपुर से एक जीते एकमात्र कायस्थ विधायक सतीश निगम को कोई पद नहीं दिया गया था बल्कि उसी दौरान विधायक रहते हुए कानपुर के जिला अध्यक्ष ने सतीश निगम को थप्पड़ मार दिया था जिसके बाद काफी बवाल भी हुआ था

स्नातक वर्ग MLC में ऐतिहासिक विजय हासिल कर राजनैतिक गलियारों कायस्थ समाज को गौरवान्वित करने वाले आशुतोष सिन्हा जी का कायस्थवृंद द्वारा अंगवस्त्र एवं स्मृति चिह्न देकर अभिनंदन किया गया।

ऐसे में कायस्थ समाज इन दोनों दलों के नेताओं की बहस से खुश भी है और थोड़ा भ्रमित भी है कि आखिर उसे क्या करना चाहिए कायस्थ वृंद के संस्थापक और प्रयागराज के कायस्थ पाठशाला के पूर्व नेता धीरेंद्र श्रीवास्तव ने कहा कायस्थों को राजनीतिक दलों में अपनी बढ़ती भागीदारी को लेकर खुश तो होना चाहिए लेकिन सचेत भी रहने की जरूरत है

आशुतोष सिन्हा की जीत हमारे बीते 5 वर्षों में किए गए प्रयासों का प्रतिबिंब मात्र हैं उन्होंने कायस्थ खबर द्वारा एमएलसी चुनाव से पहले किए गए शो अब कायस्थ बोलेगा की सराहना करते हुए बताया कि उस कार्यक्रम में कायस्थ समाज के सभी राजनीतिक दलों से नेता शामिल थे खुद आशुतोष सिन्हा भी शामिल शामिल थे जिसमें यह तय किया गया था कि जहां-जहां कायस्थ प्रत्याशी किसी भी दल से खड़ा होगा कायस्थ समाज उसको वोट देगा और उस प्रतिज्ञा का परिणाम आशुतोष सिन्हा की जीत में प्रदर्शित भी हुआ

ऐसे में हम सभी कायस्थ समाज के समर्पित सेनानियों को फिर से इसी अवधारणा पर काम करने की जरूरत है इस काम में हमारे अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के वरिष्ठ नेता रवि नंदन सहाय पूर्व कैबिनेट मंत्री सुबोध कांत सहाय पूर्व राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा जैसे तमाम बड़े नाम अपने आशीर्वाद के साथ हमारे साथ है ।

इस मामले को लेकर कायस्थ खबर के प्रबंध संपादक आशु भटनागर का स्पष्ट मानना है कि कायस्थों को लेकर समाजवादी पार्टी और भाजपा में प्रथमिकता समय की मांग है और हमारे समर्पित कायस्थ नेताओं के बीते वर्षों के संघर्ष और प्रयास के बाद अब युवाओं को भी इसके लिए आगे आने की जरूरत है आशुतोष सिन्हा, महेश चंद श्रीवास्तव, राजू श्रीवास्तव जैसे सभी नाम कायस्थ समाज की अगली उम्मीद कही जा सकती हैं इनके साथ ही धीरज श्रीवास्तव, डॉ ज्योति श्रीवास्तव, आप प्रदेश प्रवक्ता संजीव निगम, जैसे संघर्षशील साथियों को भी आगे ले जाने की जरूरत है कायस्थ खबर अपने ऐसे सभी साथियों को एक प्लेटफार्म पर लाने के लिए वर्ल्ड कायस्थ काउंसिल का निर्माण भी कर रहा है जिसमें सभी कायस्थ राजनेताओं व्यवसायियों और प्रोफेशनल की लिस्टिंग की जा रही है आने वाले 2 सालों में यह कायस्थ समाज के सभी लोगों को एक जगह लाकर सामाजिक राजनीतिक और आर्थिक मजबूती प्रदान करेगा

कायस्थ वृंद की मुख्य समनव्यिका का डॉ ज्योति श्रीवास्तव ने कहा कि अब हमें अपने युवाओं की समस्याओं और राजनीति में उन को आगे ले जाने के कार्य को तेजी से आगे बढ़ाना पड़ेगा ताकि 2022 में आने वाले चुनावों में कायस्थों को सभी राजनीतिक दलों में उचित सम्मान मिल सके और टिकट के तौर पर राजनीतिक प्रतिनिधित्व मिल सके हम इस बात के लिए प्रयासरत रहेंगे कि जहां-जहां कायस्थ प्रत्याशी किसी भी राजनीतिक दल से टिकट लेकर लड़ेंगे हम उनकी जीत को सुनिश्चित करेंगे

लखनऊ में कायस्थ समाज प्रमुख स्तंभ और वरिष्ठ पत्रकार अवतांश चित्रांश इस मामले को लेकर स्पष्ट राय रखते हैं कि अब वक्त आ चुका है जब किसी भी दल से आए हुए कायस्थ प्रत्याशी और कायस्थ राजनेता को कायस्थ समाज आगे बढ़ाएं उन्होंने बीते दिनों उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी द्वारा प्रदेश कार्यकारिणी में किसी भी कायस्थ कोई स्थान ना दिए जाने के बाद लखनऊ में लगे कायस्थ समाज द्वारा लगाए पोस्टर्स का उदाहरण देते हुए कहा की पहली बार जमीन पर कायस्थों ने इस तरीके का प्रतिरोध दिखाया जिसके बाद सभी राजनीतिक दल यह सोचने पर मजबूर हुए हैं कि कायस्थों को भी अब हिस्सेदारी प्रमुख रूप से देनी पड़ेगी

आप की राय

आप की राय

About कायस्थखबर संवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*