Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » कायस्थों का इतिहास » प्रसंग : जब भगवान राम के राजतिलक में निमंत्रण छुट जाने से नाराज भगवान् चित्रगुप्त ने रख दी थी कलम !!

प्रसंग : जब भगवान राम के राजतिलक में निमंत्रण छुट जाने से नाराज भगवान् चित्रगुप्त ने रख दी थी कलम !!

कायस्थ खबर डेस्क I परेवा काल शुरू हो चुका है और आज के दिन कायस्थ समाज कलम का प्रयोग नहीं करता है यानी किसी भी तरह का का हिसाब कितना नहीं करता है I कई लोगो के इस पर फ़ोन आये की आखिर ऐसा क्यूँ है की पश्चिमी उत्तरप्रदेश में कायस्थ दीपावली के पूजन के कलम रख देते है और फिर कलम दवात पूजन के दिन ही उसे उठाते है I

इसको लेकर सर्व समाज के भी कई सवाल अक्सर लोग कायस्थों से करते है, ऐसे में अपने ही इतिहास से अनभिग्य कायस्थ युवा पीड़ी इसका कोई समुचित उत्तर नहीं दे पाती है I कायस्थ खबर ने जब इसकी खोज की तो इससे सम्बंधित एक बहुत रोचक घटना का संदर्भ हमें किवदंतियों में मिला I

कहते है जब भगवान् राम दशानन रावण को मार कर अयोध्या लौट रहे थे, तब उनके खडाऊं को राजसिंहासन पर रख कर राज्य चला रहे राजा भरत ने  गुरु वशिष्ठ को भगवान् राम के राज्यतिलक के लिए सभी देवी देवताओं को सन्देश भेजने की वयवस्था करने को कहा I गुरु वशिष्ठ ने ये काम अपने शिष्यों को सौंप कर राज्यतिलक की तैयारी शुरू कर दीं I

ऐसे में जब राज्यतिलक में सभी देवीदेवता आ गए तब भगवान् राम ने अपने अनुज भरत से पूछा चित्रगुप्त नहीं दिखाई दे रहे है इस पर जब खोज बीन हुई तो पता चला की गुरु वशिष्ठ के शिष्यों ने भगवान चित्रगुप्त को निमत्रण पहुंचाया ही नहीं था जिसके चलते भगवान् चित्रगुप्त नहीं आये I इधर भगवान् चित्रगुप्त सब जान तो चुके थे और इसे भी नारायण के अवतार प्रभु राम की महिमा समझ रहे थे फलस्वरूप उन्होंने गुरु वशिष्ठ की इस भूल को अक्षम्य मानते हुए यमलोक में सभी प्राणियों का लेखा जोखा लिखने वाली कलम को उठा कर किनारे रख दिया I

सभी देवी देवता जैसे ही राजतिलक से लौटे तो पाया की स्वर्ग और नरक के सारे काम रुक गये थे , प्राणियों का का लेखा जोखा ना लिखे जाने के चलते ये तय कर पाना मुश्किल हो रहा था की किसको कहाँ भेजे I तब गुरु वशिष्ठ की इस गलती को समझते हुएभगवान राम ने अयोध्या में भगवान् विष्णु द्वारा स्थापित भगवान चित्रगुप्त के मंदिर ( श्री अयोध्या महात्मय में भी इसे श्री धर्म हरि मंदिर कहा गया है धार्मिक मान्यता है कि अयोध्या आने वाले सभी तीर्थयात्रियों को अनिवार्यत: श्री धर्म-हरि जी के दर्शन करना चाहिये, अन्यथा उसे इस तीर्थ यात्रा का पुण्यफल प्राप्त नहीं होता।) में गुरु वशिष्ठ के साथ जाकर भगवान चित्रगुप्त की स्तुति की और गुरु वशिष्ठ की गलती के लिए क्षमायाचना की, जिसके बाद नारायण रूपी भगवान राम के आदेश मानकर भगवान चित्रगुप्त ने लगभग ४ पहर (२४ घंटे बाद ) पुन: कलम की पूजा करने के पश्चात उसको उठाया और प्राणियों का लेखा जोखा लिखने का कार्य आरम्भ किया I कहते तभी से कायस्थ दीपावली की पूजा के पश्चात कलम को रख देते हैं और यम द्वीत्या के दिन भगवान चित्रगुप्त का विधिवत कलम दवात पूजन करके ही कलम को धारण करते है

कहते है तभी से कायस्थ ब्राह्मणों के लिए भी पूजनीय हुए और इस घटना के पश्चात मिले वरदान के फलस्वरूप सबसे दान लेने वाले ब्राह्मणों से  दान लेने का हक़ भी कायस्थों को ही है I

कैसी लगी आपको कलम दावत पूजन से सम्बंधित ये अद्भुद जानकारी, अपने विचार हमें कमेन्ट बाक्स में दें , अगर ऐसी ही कोई जानकारी आपके भी पास है तो हमें मेल करें या फ़ोन करे आपके नाम से ही जानकारी पब्लिश की जायेगी

प्रस्तुति : डा बी बी एस रायजादा  (पूर्व संयुक्त निदेशक,उच्च शिक्षा उत्तर प्रदेश ), सहयोग : धीरेन्द्र श्रीवास्तव(इलाहाबाद) : शोध : रुपिका भटनागर एवं आशु भटनागर 

 

 

आप की राय

आप की राय

About कायस्थ खबर

कायस्थ खबर(http://kayasthakhabar.com) एक प्रयास है कायस्थ समाज की सभी छोटी से छोटी उपलब्धियो , परेशानिओ को एक मंच देने का ताकि सभी लोग इनसे परिचित हो सके I इसमें आप सभी हमारे साथ जुड़ सकते है , अपनी रचनाये , खबरे , कहानियां , इतिहास से जुडी बातें हमे हमारे मेल ID kayasthakhabar@gmail.com पर भेज सकते है या फिर हमे 7011230466 पर काल कर सकते है आशु भटनागर प्रबंध सम्पादक कायस्थ खबर

7 comments

  1. DR K K SAXENA STREET NO 8 PARAM HANS KUTI BARI ASHOK NAGAR ETAWAH UP 206001 UP

  2. JITENDRA SRIVASTAVA

    आज बहुत बड़ा इनफार्मेशन मिला। आपके द्वारा यह रोचक जानकारी प्राप्त हुआ,बहुत अच्छा लगा।
    वास्तव में कलम रखने के पीछे का कारण हमें नही पता था। अब हमसे कोई भी पूछेगा तो हम उसे उत्तर देने में सक्षम हैं।

  3. अनिल श्रीवास्तव

    तथ्यपरक बेहतरीन प्रसंग….शुभकामनाएं 💐💐

  4. A very useful information. There is a mandir of Bhagwan Chittagong ji at Roshanpura, Nai Sarak ,Old Delhi. Earlier,on doj puja Ladoo, paper, kalam and pencil were distributed . Mandir was looked after by Mathur Community living in old Delhi, mainly late Shri Channu Mal Ghari Wale ( Swastik watch Co ). Now that Mathurs have moved out from old Delhi, mandir is in a state of negligence. It needs a care.

  5. Bahut hi adbhut jankari.

  6. Gopal Shankar Prasad

    Chitragupta puja sabhi ko karni chahiye; kyunki kalam ke pujari ham sabhi hain,ise kisi jati-vishesh ke liye simit nahin rahne dena chahiye.Asha hai ki is puja ko sarvasadharan dwara apnaya jayega.

  7. arun kumar srivastava

    Very nice…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*