Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » चौपाल

चौपाल

अपील : २ मई को भगवान् चित्रगुप्त प्रगटोत्सव पर इस कर्मठ कायस्थ महिलाओ स्वागत और समर्थन ही इनका प्रोत्साहन : धीरेन्द्र श्रीवास्तव

ये वो सक्रिय कायस्थ महिलायें जिनकी सक्रियता के पहले भी उदाहरण रहे है।इनका स्वागत करिये क्योंकि इनमे से अनेक सोशल मीडिया पर नही है पर धरातल पर अनेक सामाजिक कार्य करती रही है जैसे वृक्षारोपण,गंगा प्रदूषण,प्रौढ़ शिक्षा,बाल शिक्षा,महिला सशक्तिकरण,मलिन बस्ती उद्धार,एवम मतदान प्रोत्साहन अभियान इत्यादि। बिन्नी जी,अपर्णा जी,अर्चना जी,अनीता जी,रेखा जी,प्रियंका जी,मधुबाला जी,नीलम जी,कल्पना जी,इरफाना जी एवम जूली जी सरीखी ...

Read More »

कायस्थ बोलता है : स्वयम भू अन्तर्राष्ट्रीय/राष्ट्रीय कायस्थ संद्यों के फेसबुकिया प्रमुखों से सावधान ? दीपक श्रीवास्तव

कायस्थ खबर "कायस्थ बोलता है" के नाम से  एक नया कालम शुरू कर रहा है जिसमे लोगो के टेस्टीमोनियलस उन लोगो के बारे में दिए जायेंगे जो परदे के पीछे रह कर काम कर रहे है I ये एक नयी कोशिश है समाज के चेहरों को आगे लाने का , मकसद है समाज में सहयोग की भावना को सामने लाने ...

Read More »

बेचारे सोनू बाबू,समर्थन कर विरोध,समर्थन का विरोध, बुद्धजीवी बने गतिरोध- कवि स्वप्निल

"हम खेलें तो गिल्ली डण्डा तुम खेलो तो टूर्नामेन्ट" लम्बे अर्से से सियासत को इसी ढर्रे पर लुढ़कते हुए देखता रहा हूँ। परम्परागत राजनीति से लेकर समाज विशेष के एकता व विकास हेतु काम करने वाले संगठन भी इसी ढर्रे पर हैं। वैसे साहब आईये बात अपने समाज की करते हैं, कायस्थ समाज की। बात उस समाज की जहाँ काम ...

Read More »

धीरेन्द्र श्रीवास्तव की खरी खरी : सोनू निगम के प्रकरण में कायस्थ संगठनो की चुप्पी चिन्ता जनक। ऐसा क्यो ?

चाहे समाज विरोघी तत्वो द्वारा भगवान चित्रगुप्त के हँसी उड़ाने का मामला हो चाहे समाज विखण्डक तत्वो द्वारा कायस्थ समाज के आम और खास कायस्थो के अपमान अथवा विरोध का मामला हो ,कतिपय कायस्थ संगठनो/संस्थाओ की आश्चर्यजनक चुप्पी तब और चिन्ता जनक हो जाती है जब वे समाज सेवा के विषय के रूप में कायस्थ पर ही काम करने का ...

Read More »

सैयद शा कादिरी के फतवे को सोनू निगम ने जिस तरह अंजाम दिया, आपके उस जज़्बे को सलाम!!- डॉ ज्योति श्रीवास्तव

कांकर पाथर जोड़ि कै मस्जिद लई बनाय, ता चढ़ि मुल्ला बांग दे का बहिरा भरा खुदाय। वर्षों पहले कही कबीर की वाणी को फिर से अपने शब्दों द्वारा जीवंत करने के लिए सोनू निगम को बधाई एवं साधुवाद !! इतने सालों से कोई हिम्मत नहीं जुटा सका जबकि इस समस्या से त्रस्त सभी थे और कुढ़ते रहते थे। आज फिर ...

Read More »

सोनू निगम जी बधाई, किसी सेलीब्रेटी ने हिम्मत कर आम आदमी की बात तो कही : धीरेन्द्र श्रीवास्तव

मै सोनू निगम जी के वक्तव्य का समर्थन करता हूँ।आवश्यकता पड़ी तो "कायस्थवृन्द"सोनू निगम जी के वक्तव्य के समर्थन हेतु सघन रणनीति बनायेगा।वे अपने को अकेला न समझे। दरअसल भारत में धार्मिक अंधविश्वास व तुष्ष्टीकरण का ऐसा वातावरण बना हुआ है जिसे समाप्त करने में समय के साथ बड़े यतन की आवश्यकता होगी। कट्टरता कितनी भरी हुयी है इस भोगे ...

Read More »

सोनू निगम को कायस्थयुवान के राष्ट्रीय संयोजक कवि स्वप्निल का समर्थन करता हुआ खुला पत्र

आत्मीय सोनू भाई, मै ये नही कहता की आपने ये क्या कह दिया, ये भी नही पूछूँगा की क्यों कह दिया पर इतना जरूर कहना चाहता हूँ की कहाँ कह दिया? एक ऐसे देश में जहाँ सियासत भी मजहबी कट्टरता में निवास करने लगी है, और इस कट्टरता का दमन करने की बजाय जहाँ की सियासत मजहबी तुष्टिकरण में लगी ...

Read More »

रविवार विशेष : हम मदारी हैं??? अच्छा अच्छा चल रे मुन्नू नाच तो जरा….. हाँ ऐसे ही…. शाबाश… हाँ लगा ठुमका-कवि स्वप्निल

साहेबान,कद्रदान, भाई जान आईये खेल दिखाता हूँ, आईये हजरात आईये गुदगुदाता हूँ, हँसाता हूँ। आईये आईये घेरा बनाइये और देखिये इस मदारी का कमाल। कैसे नाचेगा बन्दर, कैसे करतब दिखायेगा भालू,कैसे बिल्ली खम्भा नोचेगी, सब दिखाऊंगा। हाँ जी साहब! क्या बन्दर का नाच??? अच्छा अच्छा चल रे मुन्नू नाच तो जरा..... हाँ ऐसे ही.... शाबाश... हाँ लगा ठुमका.... लाओ जी ...

Read More »

व्हाट्सएप ग्रुपों को छोड़ना धीरन्द्रश्रीवास्तव की हताशा या कायस्थ वृन्द को नयी दिशा देने की कोशिश है

कायस्थखबर डेस्क I सोशल मीडिया में एक वक्त ऐसा भी आता है जब आप लगातार सैकड़ो ग्रुपों में होने के बाद उन्हें छोड़ना शुरू कर देते है या उनसे उदासीन होना शुरू कर देते है I ये एक स्वाभविक स्थिति है और इसकी जब में हर एक सेलिब्रिटी राजनेता , समाज सेवी एक दिन आता है I दरअसल ये सोशल ...

Read More »

संगठनों के हुल्लड़ मचाने वाले लोग को चिन्हित करने का समय आ गया है – श्वेता रश्मि

श्वेता रश्मि I भगवान चित्रगुप्त का स्थान हिन्दुओं में कर्म और फल का लेखा जोखा सहेजने वाले और न्यायाधीश के तौर पर स्थापित है। स्वाभाविक है कि जब भगवान चित्रगुप्त को पूरी दुनिया में किसी ना किसी रूप में याद किया जाता है तो उनके अपने वंशजों में उनकी भूमिका परिवार के सबसे बडे मुखिया के रूप में कायम है, ...

Read More »