Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » चौपाल

चौपाल

कपिल शर्मा के विरोध के पाखण्ड का सच : कायस्थ समाज का विरोध प्रदर्शन फेसबुक से शुरू होकर व्हाट्सएप पर आकर खत्म हो जाता है – शिवनाथ बिहारी

कपिल शर्मा को लेकर कायस्थ समाज के कुछ कागजी संगठनो ने बिना बात के एक विवाद पैदा किया हुआहै I भगवान् चित्रगुप्त के अपमान को ढाल बना कर ये लोग ना सिर्फ अपनी राजनीती दूकान को चलाने में लगे बल्कि भगवान् चित्रगुप्त का अपमान भी कर रहे है I सच ये है की अगर भगवान् चित्रगुप्त की जगह साईं को ...

Read More »

कायस्थ समाज को भाजपा ने उचित प्रतिनिधित्व की दिशा में संतुलित कदम बढ़ा दिया है – मनीष श्रीवास्तव

कायस्थ समाज को भाजपा ने उचित प्रतिनिधित्व की दिशा में संतुलित कदम बढ़ा दिया है। अब कायस्थ समाज को भाजपा ने उत्तर प्रदेश, बिहार,झारखंड, मध्यप्रदेश ,राजस्थान, पश्चिमी बंगाल, उड़ीसा, त्रिपुरा, महाराष्ट्र,दिल्ली समेत कई प्रदशो से अनेक प्रतिनिधित्व दिए है और दे रहे है।अब उन सभी प्रतिनिधित्व पा रहे कायस्थ नेताओ की जिम्मवारी है कि वो सभी स्वामी विवेकानंद विचारधारा के ...

Read More »

कायस्थ समाज का दुर्भाग्य है की सामाजिक चर्चा की जगह व्यक्तिगत और दोषपूर्ण आरोप लगाने वाले प्रशान्त सिन्हा रोल माडल बन रहे है

कायस्थ समाज यूँ तो बुद्धिजीवी होने का ढोंग पुरे जोर शोर से करता है I और उसे सभी जगह ढोल बजाकर सुनाता है भी है पर क्या सच यही है ? क्या वाकई कायस्थ समाज में लोग अपना वैचारिक स्तर ऐसा  बनाकर रख पाते है की उन्हें बुद्धिजीवी कहा जा सके ? शयद नहीं उदाहरण के लिए हम प्रशान्त सिन्हा ...

Read More »

आज आवश्यकता है कि सामाजिक संगठनों की भूमिका पर जरूर चर्चा हो – अतुल श्रीवास्तव

आज आवश्यकता है कि सामाजिक संगठनों की भूमिका पर जरूर चर्चा हो . वैसे देखा जाय तो ढेरो महासभाएं, मंच मोर्चा फ़ाउंडेशन संगठन अपने वर्ग को मजबूत करने के बजाय अपनी ही विरदारी मे वैमनस्य पैदा करने में लगी रहती हैं. यही नहीं, यह तमाम सामाजिक संगठन राजनीतिक पार्टियों के पिछलग्गू भी हैं, जिसके कारण जरूरत के समय इस प्रकार ...

Read More »

सोशल मीडिया ने बेरोजगारों को कायस्थ समाज का नेता बना दिया है, जो खुद दिशाहीन है वो समाज को दिशा कैसे दें

आज सुबह सुबह एक व्हाट्सअप्प ग्रुप में विवाद देखा, हैरानी हुई की कायस्थ समाज के एडमिनो को जोड़ कर बनाये ग्रुप में जंग जारी थी I एक ७० साल के आदमी के लिए ३० साल के लड़के के अभद्र कमेन्ट जारी थे I हमने देखा की ये कमेन्ट इसलिए थे की वो बुजुर्ग एक कायस्थ समाज के युवाओं की शादी ...

Read More »

कायस्थों को माँ बहन की गालियाँ, गोली मार देने वाले कायस्थवाद की बात करते है, ऐसे में कायस्थ खबर बंद कर देने का मन करता है

आज मन दुखी है I क्योंकि गालियाँ और जान से मारने की धमकी किसी कायस्थ से इसलिए मिली है क्योंकि कायस्थों के ऐतिहासिक तथ्यों  और भगवान् चित्रगुप्त के अवतरण से सम्बंधित जानकारी पर उनकी भ्रमित जानकारियों पर सवाल उठाये I जबाब में उन्होंने सवालों को बेतुका बताते हुए  ग्रुप से हटा दिया I इसके बाद हमने उनको पूछा की चंद्र्सेनिये ...

Read More »

आपातकाल विशेष : कायस्थ बाहुल्य सीटों से आने वाले कायस्थ नेता निकम्मे साबित हुए हैं – आशु भटनागर

आज ही के दिन 25 जून, 1975 को देश में आपातकाल घोषित कर दिया गया था I आज का दिन देश में किसी भी तरह की तानाशाही को स्वीकार ना करने का दिन है I ऐसे में जिस आपातकाल के खिलाफ कायस्थों ने तब आवाज़ उठाई वो आज राजनीती में कहाँ है ? क्या वो आज कुछ कर पा रहे है ...

Read More »

मुद्दा : लाल बहादुर शास्त्री जी के पुत्र होने के अलावा अनिल शास्त्री जी का समाज में योगदान क्या है ?

आज एक पोस्ट दिखा जिसमे हमारे देश के दुसरे प्रधानमंत्री  लाल बहादुर शास्त्री जी के सपुत्र अनिल शास्त्री जी को उनके जन्मदिन की बधाई दी गयी थे I बहुत सोचने के बाद मैंने सोचा की आखिर अनिल शास्त्री जी का कायस्थ समाज बल्कि यूँ कहूँ की सर्व समाज में भी राजनैतिक सामाजिक योगदान क्या है ? अनिल शास्त्री जी कांग्रेस ...

Read More »

चुनाव ख़तम, कायस्थ प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला अब २३ को, अब समाज से होंगे सवाल

कायस्थ खबर डेस्क I देश भर में ५ हफ्तों से लम्बे चले चुनाव का समापन १९ मई को हुए आखरी मतदान से हो ही गया I इसके साथ ही हिंदी भाषी बेल्ट की राजधानियों से खड़े हुए कायस्थ प्र्याशियो के भाग्य का फैसला भी २३ मई को पता चलेगा I इन चुनावों में उत्तर भारत हिंदी भाषी बेल्ट में कायस्थों ...

Read More »

आज आवश्यकता है कि सामाजिक संगठनों की भूमिका पर जरूर चर्चा हो – अतुल श्रीवास्तव

आज आवश्यकता है कि सामाजिक संगठनों की भूमिका पर जरूर चर्चा हो . वैसे देखा जाय तो ढेरो महासभाएं, मंच मोर्चा फ़ाउंडेशन संगठन अपने वर्ग को मजबूत करने के बजाय अपनी ही विरदारी मे वैमनस्य पैदा करने में लगी रहती हैं. यही नहीं, यह तमाम सामाजिक संगठन राजनीतिक पार्टियों के पिछलग्गू भी हैं, जिसके कारण जरूरत के समय इस प्रकार ...

Read More »