Home » चौपाल » ABKM विवाद : संजीव जी अखिल भारतीय कायस्थ महा सभा ” से इतनी नफरत क्यों -बृजेश कुमार श्रीवास्तव

ABKM विवाद : संजीव जी अखिल भारतीय कायस्थ महा सभा ” से इतनी नफरत क्यों -बृजेश कुमार श्रीवास्तव

संजीव जी :--- आशीर्वाद आप का यह लेख पढ़ कर मन ग्लानि से भर गया , स्व्यम्भू बनने की जिस उत्कृष्ट उत्कंठा को आप का यह लेख आज उजागर कर गया , उससे अंतर मन पीड़ा से कराह उठा ! जिस कायस्थ वृन्द को आप महिमा मंडित कर गये उसका अस्तित्व ही देश की सभी संगठनो को मंच देने के लिये " मान कायस्थ शिरोमणि " " धीरेंद्र श्रीवास्तव जी , डा . अरविन्द जी , आप स्वयं , के द्वारा तैयार किया गया था , जिसमें , आप ने देश या प्रदेश के सभी कायस्थ संगठनो को आमंत्रित करके , उनके विचारों को एकत्रित कर देश में प्रचारित करने उन्हे "कायस्थ समाज " में जन जन तक पहुँचाने का माध्यम बन कर कार्य करना शुरू किया ! भाई मैं भी आप से जुड़ा , मेहनत किया , धन खर्च किया , सम्मेलन कराया , कई प्रान्तों के लोग जुड़े और फैजाबाद आयें भी , सफल रहा फैजाबाद का कार्यक्रम :--- लेकिन जिस पीड़ा का एहसास मुझे हुआ , शायद आप को नहीँ हुआ होगा , या हो सकता हैं हुआ हो और आप उसे किसी लिहाज बस व्यक्त ना कर पा रहें हो ! आप का यह लेख केवल और केवल मेरे लीये ही हैं ,इतना मैं भी समझदार हूँ ! तो आप को यह ज्ञात होना चाहिये :--- की ए बी के एम में पद लेना पद की लोलुपता नहीँ हैं , यदि ऐसा हैं तो आप सबसे पहले अपने " राष्ट्रीय संयोजक मान . डा . अरविन्द श्रीवास्तव जी को " जो  ए बी के एम में प्रांतीय " कार्यकारी अध्यक्ष हैं " क्या वे भी पद्लोलूप कहे जायेंगे ? मै आप से एक प्रश्न पूछता हूँ :-- जब आप सभी संगठनो को एक मंच देते हैं , आप का मतलब " कायस्थ वृन्द " तो राष्ट्र के इस सबसे पुराने " कायस्थ संगठन " अखिल भारतीय कायस्थ महा सभा " से इतनी नफरत क्यों ? कायस्थ वाहिनी के :-- पंकज भैया प्रिय हैं कार्यस्थ सेना के :- कुलश्रेष्ठ जी प्रिय हैं रा ज पार्टी के :-- मनोज जी प्रिय हैं का जा सं फै के :- राजन प्रिय हैं अर्थात देश के अन्य सभी संगठन सम्मेलन करे , विकास करे , पदाधिकरी बनाये तो कोई बात नहीँ " ए बी के एम " ने हमें या किसी को पद दे दिया तो हम पद लोलुप हो गये और ए बी के एम दंश झेल रही हैं छटपटाहट का संजीव जी पद की लोलुपता " क्या आप के कायस्थ वृन्द में नहीँ हैं वहाँ भी सब मठाधीश ही हैं , सब निर्णायक की भूमिका में ही हैं , इसका एहसास हमें "" फैजाबाद " में खूब हुआ , सभी को हुआ भैया आज देश में सभी " आम कायस्थ " ही हैं , जिसके पास विवेक हैं वह आम से खाश हो जाता पूरे देश में :--- जिसके पास पैसा और पावर हैं :---- वह खाश हो जाता हैं , पूरे राष्ट्र में अब मान धीरेँद्र जी का विवेक देखिए , अपनी सोच , अपनी लगन , अपनी निष्ठा से आज देश के सबसे लोकप्रिय कायस्थ हैं , वही आर के सिन्हा साहब को देखिये अरब पति हैं , चाहें तो भगवान चित्रगुप्त जी के बगल सिंघासन खरीद लें , " आज कायस्थ समाज के लीये सबकुछ कर रहें हैं पर वोट मिला 3% भाई संजीव जी :---- आज एक बात नोट कर लो :---- मै बहुत नम्र दिल का कठोर और जिद्दी व्यक्ति हूँ , लोलुपता और लालच स्वार्थ और चोरी मेरे अंदर हैं नहीँ , " सम्मान चाहता हूँ , सम्मान देता हूँ " टूट भी जल्दी जाता हूँ , क्योंकि ,परिणाम तुरंत चाहता हूँ , भरोसा तुरंत करता हूँ ! इस समय तमाम संगठनो " कायस्थ वृन्द के " से दूर रहने कारण सिर्फ यह हैं की " मान धीरेंद्र जी या अन्य जो गणमान्य लोग हैं शायद हमारी उपस्थिति कम अच्छी लग रही हैं ! क्योंकि कुछ दिन पहले मैंने इस " सर्वे का विरोध किया था " जिसमे माननीय आशु भटनागर जी ने हमें काफी कुछ कह गये थे ! वरिष्ठ होने के नाते :-- और भारतीय जनता पार्टी से हमारे फैजाबाद से  माननीय """ कमलेश श्रीवास्तव जी """ को चुनाव लडाने व टिकट पाने के लिये हमने लिखा था ! आशु भटनागर " के उस कृत्य पर किसी ने एक शब्द उनको ऐसा ना करने के लिये , नहीँ कहा ! मानव स्वभाव हैं , अग्रणी बनना , ख्याति पाना , जिस दौड़ में आज मध्यम वर्ग से लेकर आर .के . सिन्हा जैसे लोग सभी अपनी क्षमता के अनुसार लगे हैं ! ए बी के एम भी " कायस्थो की " ही सबसे पुरानी संस्था हैं , बट वृक्ष हैं :---- देश की सभी संगठन :--- आज उसी " अखिल भारतीय कायस्थ महासभा " की शाखाएँ , तने , पत्ते , और फूल , फल हैं ! हर संगठन के निर्माताओं के पूर्वज कभी ना कभी इस के सदस्य ज़रूर रहें होंगे ! तो भैया मैं भी फैजाबाद में कायस्थ एकता पर ही कार्य कर रहा हूँ ! मेरा इस समय केवल एक ही " लक्ष्य " हैं मान " कमलेश श्रीवास्तव जी " को "अयोध्या विधान सभा" सीट बी जे पी से टिकट लेना और जिताना ! फैजाबाद के अयोध्या के उन 40,000 हजार कायस्थ मतदाताओं को इकट्टा करने और " कमलेश " भैया को जिताना ! और यदि बी जे पी टिकट नहीँ देती हैं तो : --------- मैं बृजेश कुमार श्रीवास्तव , जिला अध्यक्ष , ए बी के एम फैजाबाद आप से वादा करता हूँ की "अयोध्या विधान सभा " का कायस्थ मतदाता " बी जे पी के विरोध में वोटिंग करेगा ! मेरी इस प्रतिज्ञा में जो भी मेरी सहायता करेगा मैं उसका आजीवन आभारी रहूंगा ! मेरी बाते जिसे भी अच्छी ना लगी हो उससे क्षमा प्रार्थी हूँ ! सभी से सहायता की अपील के साथ ! आप का " कायस्थ सेवक " बृजेश कुमार श्रीवास्तव ( जिला अध्यक्ष ) ए बी के एम फैजाबाद इस ABKM विवाद के संदर्भ में हमें कुछ जबाब मिले उन्हें आप नीचे दिए लिंक पर पढ़ सकते है ABKM विवाद : "A.B.K.M. में छटपटाहट क्यों" - संजीव सिन्हा  ABKM विवाद : यह सच है कि ABKM नेतृत्व विहीन है -MBB सिन्हा  ABKM विवाद : संजीव जी अखिल भारतीय कायस्थ महा सभा " से इतनी नफरत क्यों -बृजेश कुमार श्रीवास्तव  ABKM विवाद : यदि ए बी के एम में कायस्थ एकता करने की आज छटपटाहट " आ गयी हैं तो कौन सा अपराध हो गया हैं - बृजेश कुमार श्रीवास्तव  ABKM विवाद : 'मत' भेद कभी भी 'मन' भेद नहीं बनने चाहिए - ललित सक्सेना 

आप की राय

आप की राय

About कायस्थ खबर

कायस्थ खबर(http://kayasthakhabar.com) एक प्रयास है कायस्थ समाज की सभी छोटी से छोटी उपलब्धियो , परेशानिओ को एक मंच देने का ताकि सभी लोग इनसे परिचित हो सके I इसमें आप सभी हमारे साथ जुड़ सकते है , अपनी रचनाये , खबरे , कहानियां , इतिहास से जुडी बातें हमे हमारे मेल ID kayasthakhabar@gmail.com पर भेज सकते है या फिर हमे 7011230466 पर काल कर सकते है अगर आपको लगता है की कायस्थ खबर समाज हित में कार्य कर रहा है तो  इसे चलाने व् कारपोरेट दबाब और राजनीती से मुक्त रखने हेतु अपना छोटा सा सहयोग 9654531723 पर PAYTM करें I आशु भटनागर प्रबंध सम्पादक कायस्थ खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*