Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » गीत/कविता » मगर जीवन नहीं छिना करता है -राम पाल श्रीवास्तव ‘अनथक ‘

मगर जीवन नहीं छिना करता है -राम पाल श्रीवास्तव ‘अनथक ‘

सब कुछ छिन जाता है , मगर जीवन नहीं छिना करता है
 कण - कण प्रस्तर चूर्ण बनकर दर्पण नहीं मरा करता है
दिव्य सुधावर्षण नभ - व्योम से , पल में क्षण छिन जाता है
चतुर्दिक आभा हो किंचित, मगर अवसर नहीं मरा करता है ,
सब कुछ छिन जाता है , मगर जीवन नहीं छिना करता है |
रिस - रिस कर धरती पर जो जीवन रस की सरित बहाता
विष का विषहर बनकर भी जो निर्लेप भाव की अलख जगाता
 जीवन हो सुंदर- सार्थक आत्मवत सर्वभूतेषु बन जाता है
सर्व कल्याणी , समभावी बन वह आत्मरस पा जाता है |
सब कुछ छिन जाता है , मगर संस्कार नहीं छिना करता है
सब कुछ छिन जाता है , मगर जीवन नहीं छिना करता है |
- राम पाल श्रीवास्तव 'अनथक '
आप भी अपनी रचनाये kayasthakhabar@gmail.com पर भेज सकते है I रचनाये मौलिक होनी चाह्यी , किसी भी प्रकार के वाद विवाद की स्तिथि मैं कायस्थ खबर ज़िम्मेदार नहीं होगा

आप की राय

आप की राय

About कायस्थ खबर

कायस्थ खबर(http://kayasthakhabar.com) एक प्रयास है कायस्थ समाज की सभी छोटी से छोटी उपलब्धियो , परेशानिओ को एक मंच देने का ताकि सभी लोग इनसे परिचित हो सके I इसमें आप सभी हमारे साथ जुड़ सकते है , अपनी रचनाये , खबरे , कहानियां , इतिहास से जुडी बातें हमे हमारे मेल ID kayasthakhabar@gmail.com पर भेज सकते है या फिर हमे 7011230466 पर काल कर सकते है अगर आपको लगता है की कायस्थ खबर समाज हित में कार्य कर रहा है तो  इसे चलाने व् कारपोरेट दबाब और राजनीती से मुक्त रखने हेतु अपना छोटा सा सहयोग 9654531723 पर PAYTM करें I आशु भटनागर प्रबंध सम्पादक कायस्थ खबर