Check the settings
Templates by BIGtheme NET
Home » चौपाल » भड़ास » अन्याय सहना, अपमान सहना कायस्थ समाज की नियति बन गया है ? – आशु भटनागर

अन्याय सहना, अपमान सहना कायस्थ समाज की नियति बन गया है ? – आशु भटनागर

दिल दुखी है , मायूस है कायस्थ नेताओं के वयवहार से उनके नकारेपन से , हमीरपुर की घटना पर उनकी चुप्पी से , अन्याय सहना ,अपमान सहना कायस्थ समाज की नियति बन गयी है ? आपको आज मेरी बातें कड़वी और बुरी लग सकती है मगर आज ये आवाज़ नहीं दिल से बद्दुआ ज्यदा है - आशु भटनागर २८ जुलाई को जब बिहार मैं कायस्थ एकता , शक्ति के बड़े बड़े दावे किये जा रहे थे , अपने आप को कायस्थों के बड़े नेता साबित किया जाने की होड़ मची थी उसी समय देश के बड़े राज्य उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले से एक कायस्थ लड़की को दबंग जाती के लडको द्वरा छेड़े जाने के बाद आत्महत्या किये जाने की खबर आ रही थी I इस आत्महत्या (इसे हत्या ही कहा जाना चाह्यी )से बहुत लोग दुखी हुए , मगर कायस्थों के देशव्यापी नेता बने एक भी नेता ने वहां हो रहे महाकुम्भो मैं इसकी आलोचना तो छोडिये चर्चा तक  करनी उचित नहीं समझी I पूरी खबर पढ़े : यूपी मे कायस्थ सुरक्षित नहीं  ,लड़की ने  खुद को जलाया याद रखये उस समय वहां देश मैं कायस्थों के सबसे तेज़ तर्रार कहे जाने वाले नेता शत्रुघ्न सिन्हा , सुबोधकांत सहाय , संजय निरुपम , पवन कुमार वर्मा जैसे कई नाम वहां मौजूद थे और वो वहां दावा कर रहे थे की अबकी बार कायस्थ जबाब देगा I मगर किसी ने एक बार उत्तर प्रदेश मैं बिहार के ही इस कायस्थ की बेटी के साथ हुए इस काण्ड की निंदा नहीं की I मुझे कहने मैं आज कोई गुरेज नहीं की इन नेताओं को कायस्थों के सिर्फ वोट चाहए उनके सुख दुःख से कोई मतलब नहीं क्योंकि कायस्थों के मामले मैं इनका चुप रहना कोई नया नहीं है I बीते दिनों लखनऊ मैं जब एक कायस्थ लड़की को मार दिया गया था तब भी इनको इनके बंद कमरों मैं कुछ पता नहीं लगा था I शाटगन कहे जाने वाले शत्रुघ्न  सिन्हा तो लालू नितीश से पारिवारिक रिश्तो की बात स्वीकार कर चुके है तो उनसे तो कोई उम्मीद ही करनी बेकार है I हाँ शत्रुघ्न  सिन्हा जी आप  राष्ट्रपति से एक आतंकवादी की फांसी पर याचिका साइन कर सकते हो मगर आपके बिहाफ पर वो 40 लोग आपके समाज की एक लड़की के लिए कुछ नहीं करने आयेंगे I अब बात करते है कायस्थ समाज की ४००० संस्थाओं (जिनमे ABKM जैसी ताकतवर संस्था तक शामिल है ) के स्वयम्भू रास्ट्रीय नेताओं की जो की कायस्थों की सेवा और सेवक होने के दावे कर रहे होते है I किसी भी ऐसे नेता ने एक बार भी अभी तक नहीं कहा की वो कायस्थ समाज के साथ हुई इस घटना पर कुछ करने जा रहा है I किसी और समाज मैं ऐसा कुछ होता तो गली स्तर तक संगठन इसके खिलाफ दिल्ली आकर जंतर मन्त्र पर धरना दे देते I मगर यहाँ सोशल मीडिया (फेसबुक , व्हाट्सअप्प ) के ये तथाकथित शेर (रास्ट्रीय अध्यक्ष, संयोजक) अपनी अपनी खुमारियो मैं डूबे रहे मगर कोई आवाज़ कोई प्रतिकार इनकी तरफ से ज़मीन पर तो छोडिये उस सोशल मीडिया तक पर नहीं दिखा जिस पर ये दावा करते दीखते है हाँ समाज के कुछ नए बच्चे ज़रूर इसका प्रतिकार कर रहे है मगर राजनीती की बिसात पर फैले इस दुश्चक्र मे  कायस्थ अपने इन रीद्विहीन नेताओं के बल पर समाज मैं कब तक ऐसे अन्याय सहेगा इसका दूर दूर तक कोई समाधान नहीं दीखता I क्योंकि ये नेता समाज की शक्ति के नाम पर नाच गाने के कार्यक्रम कर सकते है , अपने कामो के कसीदे पढ़ सकते है मगर ज़रूरत के समय किसी कायस्थ के लिए खड़े होना इनके लिए संभव नहीं है I ऐसा लगता है अन्याय सहना ,अपमान सहना कायस्थ समाज की नियति बन गयी है

आप की राय

आप की राय

About कायस्थ खबर

कायस्थ खबर(http://kayasthakhabar.com) एक प्रयास है कायस्थ समाज की सभी छोटी से छोटी उपलब्धियो , परेशानिओ को एक मंच देने का ताकि सभी लोग इनसे परिचित हो सके I इसमें आप सभी हमारे साथ जुड़ सकते है , अपनी रचनाये , खबरे , कहानियां , इतिहास से जुडी बातें हमे हमारे मेल ID kayasthakhabar@gmail.com पर भेज सकते है या फिर हमे 7011230466 पर काल कर सकते है अगर आपको लगता है की कायस्थ खबर समाज हित में कार्य कर रहा है तो  इसे चलाने व् कारपोरेट दबाब और राजनीती से मुक्त रखने हेतु अपना छोटा सा सहयोग 9654531723 पर PAYTM करें I आशु भटनागर प्रबंध सम्पादक कायस्थ खबर