Home » Kayastha Are Best in Every Field » अलविदा “पंखुरी श्रीवास्तव”…….आधुनिक भारतीय नारी के उत्थान की मसीहा…असामयिक निधन पर सादर श्रद्धा सुमन

अलविदा “पंखुरी श्रीवास्तव”…….आधुनिक भारतीय नारी के उत्थान की मसीहा…असामयिक निधन पर सादर श्रद्धा सुमन


पंखुरी श्रीवास्तव एक प्रसिद्ध भारतीय व्यवसायी थीं। पंखुरी श्रीवास्तव सिकोइया कैपिटल के महिला केंद्रित सामाजिक समुदाय मंच “पंखुरी” के संस्थापकों में से एक और ग्रैबहाउस के संस्थापक भी थी।पंखुरी श्रीवास्तव का 32 साल की उम्र में 24 दिसंबर 2021 को निधन हो गया। पंखुरी श्रीवास्तव का जन्म 17 अगस्त 1990 में उत्तर प्रदेश के झांसी में हुआ था। 2021 में पंखुड़ी श्रीवास्तव की उम्र 32 साल थी। पंखुड़ी श्रीवास्तव भारतीय राष्ट्रीयता उनकी जाति कायस्थ ,धर्म हिंदू धर्म था।

पंखुड़ी श्रीवास्तव जीवनी


श्रीवास्तव ने 2019 में पंखुड़ी की स्थापना की और सिकोइया कैपिटल इंडिया, इंडिया कोटिएंट और टॉरस वेंचर्स से सर्ज प्रोजेक्ट से 3.2 मिलियन डॉलर जुटाए।

पंखुड़ी भारतीय महिलाओं के लिए रीयल-टाइम स्ट्रीमिंग, चैट और समूह वार्तालापों के माध्यम से नेटवर्क सीखने और खरीदारी करने का एक मंच था, जिससे वे निष्क्रिय उपभोक्ताओं के बजाय ऑनलाइन सौंदर्य वार्तालापों और जीवन शैली में सक्रिय भागीदार बन सकें।

पंखुड़ी श्रीवास्तव का स्टार्ट-अप, ग्रैबहाउस, 2012 में स्थापित किया गया और इसे जल्द ही सिकोइया कैपिटल, कलारी कैपिटल और इंडिया कोटिएंट द्वारा समर्थित किया गया ।उनके लिंक्डइन प्रोफाइल के अनुसार, राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय भोपाल से कंप्यूटर इंजीनियरिंग में स्नातक होने के बाद, पंखुड़ी श्रीवास्तव को टीच फॉर इंडिया में छात्रवृत्ति से सम्मानित किया गया था। अपनी वर्तमान कंपनी की स्थापना से पहले, उन्होंने एक वर्ष के लिए जेस्टमनी और क्विकर के लिए भी काम किया था ।उत्तर प्रदेश के एक छोटे से शहर झांसी की रहने वाली पंखुड़ी की राह इतना आसान नहीं थी ।पंखुड़ी श्रीवास्तव अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद ,जब झांसी से मुंबई पहुंचीं ,तो उन्हें रेंट पर फ्लैट लेने के लिए कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा. ब्रोकर्स को भारी-भरकम फीस देनी पड़ी. इसी दौरान उनके दिमाग में आइडिया आया कि क्यों न ऐसी कंपनी शुरू करें, जिससे लोगों को घर ढूंढने में इतनी जद्दोजहद न उठानी पड़े. इसके बाद उन्होंने 20 हजार रुपए की लागत से ग्रैबहाउस की शुरुआत की. बाद में इस कंपनी का आज सालाना टर्नओवर 720 करोड़ रुपए से ऊपर पहुंच गया.

पंखुड़ी श्रीवास्तव का जीवनी विवरण
नाम Pankhuri Shrivastava
जन्म तिथि-17 अगस्त 1990
जन्मस्थल Jhansi, Uttar Pradesh
राष्ट्रीयता -भारतीय
धर्म - हिन्दू
जाति-कायस्थ
कॉलेज का नाम राजीव - गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय भोपाल
शैक्षणिक योग्यता -ग्रेजुएट बी०ई०कम्प्यूटर साईन्स
वर्तमान निवास - बेंगलुरु, कर्नाटक, भारत

उनके पिता, श्री रजनीश श्रीवास्तव, एक बैंक मैनेजर के रूप में काम करते हैं। उनकी मां डा०प्रीति श्रीवास्तव एक सफल चिकित्सकके रूप में काम करती हैं। उसकी भाई, प्रणय श्रीवास्तव, पंखुड़ी के मुख्य रणनीति अधिकारी रहे ।

कलारी कैपिटल की संस्थापक वाणी कोला ने रविवार को ट्विटर पर लिखा, ‘कल जब मुझे पता चला कि @ पंखुरी16 अब मौजूद नहीं है तो मैं चौंक गई। मैं उन्हें एक जीवंत और खुशहाल महिला के रूप में याद करता हूं। विचारों और जीवन शक्ति से भरपूर। वह अपने भविष्य केबारे में बहुत आश्वस्त थी। कोरा ने आगे कहा, “इस असामयिक त्रासदी में, मेरा दिल उनके परिवार के पास पहुंचा। उनकी मृत्यु हमारे उद्यमशील पारिस्थितिकी तंत्र की क्षति है। हमने एक स्मार्ट युवा संस्थापक खो दिया है, लेकिन मुझे पता है कि उनकी विरासत मौजूद रहेगी। पंखुड़ी को जानना वाकई सम्मान की बात है। शांति से आराम करो, पंकुरी। “उनके साथ काम करने वाले पंखुड़ी श्रीवास्तव को एक बहादुर उद्यमी के रूप में याद करते हैं।


“यह चौंकाने वाली खबर है। पंखुड़ी ऊर्जावान थी। कितने संस्थापकों में अपनी कंपनियों के नाम रखने का साहस है, ”इंडिया कोटिएंट फंड के संस्थापक और स्टार्टअप पंखुड़ी श्रीवास्तव की कम्पनी के निवेशक आनंद लूनिया ने कहा। (आनंद लूनिया) कहते हैं। लूनिया पहली बार 2013 में फंड के बूट कैंप के दौरान श्रीवास्तव से मिलीं और अपनी दोनों कंपनियों में निवेशक थीं।
पंखुरी श्रीवास्तव एक प्रसिद्ध भारतीय व्यवसायी थीं। पंखुरी श्रीवास्तव सिकोइया कैपिटल के महिला केंद्रित सामाजिक समुदाय मंच “पंखुरी” के संस्थापकों में से एक थे और ग्रैबहाउस के संस्थापक भी थे। 2021 में, उसकी अनुमानित कुल संपत्ति लगभग $ 1 मिलियन है।

पंखुड़ी श्रीवास्तव की मृत्यु का कारण


अभी तक, पाखुरी श्रीवास्तव की मौत का कारण सामने नहीं आया है, कहा जाता है हार्ट अटैक से मृत्यु हुई है ।उनके करीबी रिश्तेदर ने बताया कि अपने पति के साथ पंखुड़ी गोवा गई थी । वहीं पर उल्टी होने के बाद स्ट्रोक आगया समय पर उचित मेडीकल सहायता नहीं मिल सकी।पोस्ट मार्टम के बाद परनों को शव सौंपा गया । २८ दिस० को दाह संस्कार होगा।

पंखुड़ी के जीवन से यह सिद्ध होता हैं कि हमें अपनी लड़कियों पर गर्व करना चाहिये और अगर इन सबको उचित मौका मिले तो वे अपनी जीवन में क्या नहीं कर सकती हैं।
पंखुड़ी स्वंय एक युवा महिला थीं, जिन्होंने सभी युवाओं और महिलाओं को प्रेरित करके उदारता पूर्वक मदद करती रहीं
2021 में, उनकी अनुमानित कुल संपत्ति लगभग $ 1 मिलियन है।

पंखुड़ी श्रीवास्तव के सोशल मीडिया हैंडल
instagram @pankh16
ट्विटर @pankhuri16
फेसबुक Pankhuri Shrivastav

लेखक : राम श्रीवास्तव

लेख में दी गए जानकारी और फोटो लेखक के सोशल मीडिया से ली गई है

आप की राय

आप की राय

About कायस्थखबर संवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*