Home » चौपाल » ये न देखे की कौन सा संघटन कार्य कर रहा है , आप करे – कायस्थ सुशान्त श्रीवास्तव

ये न देखे की कौन सा संघटन कार्य कर रहा है , आप करे – कायस्थ सुशान्त श्रीवास्तव

कायस्थ कायस्थ कह के चिलाने वाले बहुत मिलेंगे हमारे कायस्थ समाज में , पंरन्तु अगर कोई कार्य कहा जाये तो अधिकांश चित्रांश बन्धु कल्टी मार लेते है ,वेसे लोगो का आखिर समाज में क्या योगदान ? इसी वार्ता पर बात हुई मेरे एक मित्र से तो हमारे चित्रांश मित्र ने कहा की कम से कम कायस्थ का नाम तो समाज में प्रचार कर रहा है , आप करो , कही आपको देखकर वो भी करने लगे ,मगर आप पीछे हटे नही । वाकई में मुझे ये लगी सही बात । अब में सभी से यही कहना चाहता हु की आपलोग ये न देखे की कोण सा संघटन कार्य कर रहा है , आप करे कहि आपको देखकर दूसरे संघटन वाले अवसय करेंगे । दूसरे की कमिया को न देखे सिर्फ अपना कार्य करे तभी समाज का भला होगा । आपका कायस्थ बन्धु कायस्थ सुशान्त श्रीवास्तव इस ABKM विवाद के संदर्भ में हमें कुछ लेख  मिले उन्हें आप नीचे दिए लिंक पर पढ़ सकते है ABKM विवाद : "A.B.K.M. में छटपटाहट क्यों" - संजीव सिन्हा  ABKM विवाद : यह सच है कि ABKM नेतृत्व विहीन है -MBB सिन्हा  ABKM विवाद : संजीव जी अखिल भारतीय कायस्थ महा सभा " से इतनी नफरत क्यों -बृजेश कुमार श्रीवास्तव  ABKM विवाद : यदि ए बी के एम में कायस्थ एकता करने की आज छटपटाहट " आ गयी हैं तो कौन सा अपराध हो गया हैं - बृजेश कुमार श्रीवास्तव  ABKM विवाद : 'मत' भेद कभी भी 'मन' भेद नहीं बनने चाहिए - ललित सक्सेना  ABKM विवाद : महासभा में अधिकतर लोग बहुत ही अच्छे, विनम्र, कुशल एवं सक्षम लोग भी हैं- mbb सिन्हा 

आप की राय

आप की राय

About कायस्थ खबर

कायस्थ खबर(http://kayasthakhabar.com) एक प्रयास है कायस्थ समाज की सभी छोटी से छोटी उपलब्धियो , परेशानिओ को एक मंच देने का ताकि सभी लोग इनसे परिचित हो सके I इसमें आप सभी हमारे साथ जुड़ सकते है , अपनी रचनाये , खबरे , कहानियां , इतिहास से जुडी बातें हमे हमारे मेल ID kayasthakhabar@gmail.com पर भेज सकते है या फिर हमे 7011230466 पर काल कर सकते है अगर आपको लगता है की कायस्थ खबर समाज हित में कार्य कर रहा है तो  इसे चलाने व् कारपोरेट दबाब और राजनीती से मुक्त रखने हेतु अपना छोटा सा सहयोग 9654531723 पर PAYTM करें I आशु भटनागर प्रबंध सम्पादक कायस्थ खबर

One comment

  1. “Responsibility for services to First Nations children is often shared by federal, provincial/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*